Breaking News

अप्रवासी मजदूरों का रोजगार सृजन करने के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कैंप का आयोजन


रिपोर्ट नवीन कुमार सिंह

वैशाली सहदेई बुजुर्ग/सहदेई प्रखंड के चकफैज पंचायत अन्तर्गत उत्क्रमित मध्य विद्यालय सहदेई खुर्द स्कुल पर बिहार कृषि प्रबंधन एवं प्रसार प्रशिक्षण संस्थान ( बामेति) के द्वारा अप्रवासी मजदूरों का रोजगार सृजन करने के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण उत्क्रमित मध्य विद्यालय सहदेई खुर्द पर चकफैज पंचायत के उप मुखिया विकाश कुमार सिंह के द्वारा कैंप लगा गया। प्रशिक्षण प्रखंड तकनीक प्रवंधक रंजीत ठाकुर ने बताया कि 

अप्रवासी श्रमिकों को अब घर में रोजगार दिलाने की पहल शुरू की गई है। इन श्रमिकों को प्रतिदिन कैसे आय प्राप्त हो इसके लिए अलग-अलग विभागों द्वारा बनाए गए चार मॉडल अपनाने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। इसके लिए प्रखंड के सभी पंचायतों में सौ-सौ अप्रवासी श्रमिकों का ग्रुप बनाकर घर में ही रोजगार सृजन और प्रतिदिन आई के अतिरिक्त आमदनी सृजन करने की दिशा में दक्ष बनाया जाएगा। इसके लिए आत्मा की ओर से एटीएम एवं बीटीएम प्रत्येक पंचायत में इन श्रमिकों को चार अलग-अलग मॉडल के बारे में जानकारी दे रहे हैं। सहदेई प्रखंड के सभी पंचायतों में किसानों को मुख्य रूप से प्रतिदिन आय और रोजगार की उपलब्धता कृषि के क्षेत्र में हो इसके लिए बामेती एवं आत्मा के द्वारा विभिन्न प्रकार के मॉडल का निर्माण किया गया है। इस मॉडल के माध्यम से श्रमिक किसान परिवार अपनी प्रतिदिन आमदनी सृजन कर सकता है। 

आत्मा के द्वारा पंचायतों में श्रमिक को प्रशिक्षण दिया जा रहा है ।इस प्रशिक्षण के माध्यम से किसानों को कृषि तकनीकी रूप से विकसित मॉडल के बारे में विस्तृत रूप से बताया जा रहा है। मॉडल में सालों भर उगाई जाने वाली फसलों से आमदनी एवं रोजगार सृजन से संबंधित है। इसमें प्रथम मॉडल सालों भर उगाने जाली वाली फसलों से संबंधित है। इसे किसान अगर अपने 800 वर्ग मीटर जमीन में 50 क्यारी बनाकर विभिन्न फसलों यथा धनिया, लाल साग, हरा साग, पालक, साग, सोया, मूली, गाजर और मेथी का उत्पादन कर रोजाना आमदनी कर सकते हैं। मुर्गी पालन पशुपालन मशरूम उत्पादन और बकरी पालन कर प्रतिदिन 800 रुपये आमदनी कर सकते हैं। अन्य दो मॉडल भी अपनाकर किसान अगर खेती करता है तो एक तो किसान को प्रतिदिन जो है रोजगार भी उपलब्ध होगा। किसानों की आमदनी भी बढ़ेगी और वह अपने घर पर ही रख कर काम करना शुरू करेगा जिससे किसान स्वाबलंबी होगा आत्मनिर्भर भी होगा और अपने राज्य की समृद्धि भी होगी।

अप्रवासी श्रमिकों का आय सृजन को लेकर प्रत्येक पंचायतों में सौ-सौ श्रमिकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन श्रमिकों को प्रतिदिन कैसे आमदनी का सृजन करें किस मॉडल को अपनाएं इन तमाम चीजों की जानकारी देकर अपने घर में ही श्रमिकों को स्वाबलंबी बनाने की योजना है। एक दिवसीय रोजगार प्रशिक्षण में शामिल प्रतिक्षण प्रखंड तकनीकी प्रबंधक रंजीत ठाकुर, सहायक तकनीक प्रबंधक मोहम्मद काशीद इमाम, किसान सलाहकार शिवकुमार मणि, पंचायत के उप मुखिया विकास कुमार सिंह, पंचायत के उपसरपंच राकेश कुमार, वार्ड सचिव चंदन कुमार सिंह, प्रशिक्षण हेतु किसान जगदीश सिंह, फागुनी पासवान, अरविंद कुमार सिंह, सुनील सिंह, निरंजन कुमार सिंह, राजेश पासवान, मनोज पासवान, मंजू देवी, रिंकू देवी, रीता देवी, सुनीता देवी, नीलम देवी, राम नाथ राम, अशोक राम, देविन्दर राम, सैंकड़ों लोग ने पहुंच कर प्रशिक्षण कार्य को सफल बनाया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!