Breaking News

महनार का लाल मोहम्मद शादाब बना सीए,मुबारकबाद का सिलसिला जारी





                   सिलाई का काम करने वाले मोहम्मद शमीम के छोटे बेटे हैं मोहम्मद शादाब 

 

हाजीपुर(वैशाली) जिले के महनार बाजार स्थित बाबू मोहल्ला बाशिंदा मोहम्मद शमीम के छोटे बेटे मोहम्मद शादाब सीए बन अपने खानदान के साथ महनार का नाम रौशन किया है।पेशे से सिलाई करने वाले मोहम्मद हासिम इदरीसी व जमीला खातून के छोटे पोते मोहम्मद शादाब ने सीए परीक्षा में सफलता हासिल कर इतिहास रचा है।पटना में रहकर पढ़ाई की और कठिन परिश्रम से यह सफलता हासिल की।मोहम्मद शादाब ने बताया कि मैट्रिक की परीक्षा 2011 में पास किया।2013 में इंटर की परीक्षा कॉमर्स विषय से पास करने के बाद सीए की पढ़ाई के लिए दिसंबर 2013 में ही सीपीटी पास किया।इसके बाद आर्टिकल सीप 2021 में कंप्लीट किया।सीए की पढ़ाई की शुरूआत सीए एस पी यादव सर के यहां से किया और फिर सीए प्रवीण शर्मा,सीए संजय सर्राफ,पंकज गर्ग,अतुल अग्रवाल और सीए प्रतीक जगाती सर से पढ़ाई की।10 फरवरी को सीए परीक्षा परिणाम घोषित किया गया जिसमें पास हो गया।मोहम्मद शादाब के सफलता से पूरे परिवार में खुशी का माहौल है।वहीं इस सफलता से महनार के बाबू मोहल्ला में भी खुशी का माहौल है।इस मोहल्ला में यह पहला सीए बना है।शादाब के अब्बू मोहम्मद शमीम महनार बाजार के प्यासा गली में शमीम टेलर नाम की सिलाई दुकान चलाते हुए बेटे की पढ़ाई में कभी भी कोई कमी नहीं होने दी।वहीं शादाब की अम्मी अस्मत आरा घरेलू औरत होते हुए भी बेटे को हमेशा पढाई के लिए प्रेरित करती रही।नतीजे में बेटे ने सीए बन कर मां बाप के ख्वाब को पूरा कर आंखों में खुशियों का सैलाब ला दिया।बेटे की कामयाबी पर मां बाप दोनो खुश हैं।शादाब ने विशेष तौर पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह कामयाबी मेरे मां बाप,दादा,दादी और सभी रिश्तेदार की दुआओं के कारण मिली है।सीए बनने के बाद मोहम्मद शादाब को मुबारकबाद देने वालों का सिलसिला जारी है।मुबारकबाद देने वालों में बड़ा भाई इंजीनियर मोहम्मद महताब आलम,बड़े अब्बू मोहम्मद अमजद अली इदरीसी पूर्व वार्ड पार्षद,चाचा मोहम्मद नसीम,मोहम्मद शौकत,डॉक्टर मोहम्मद हैदर अली,मोहम्मद शकील,मोहम्मद जुम्मन,मोहम्मद साबिर,फूफू ताहिरा खातून,सायरा खातून,शहनाज खातून,जाहिदा खातून पटना,फूफा मोहम्मद मुस्तकीम,मोहम्मद शोएब आलम,मोहम्मद मुमताज पटना,भाई डॉक्टर मोहम्मद परवेज आलम,डॉक्टर मोहम्मद एजाज,मोहम्मद राजू,मोहम्मद रौनक,मोहम्मद रूदल,मोहम्मद मनौवर,मोहम्मद नन्हे,मोहम्मद वसीम उर्फ पिंकू,मोहम्मद मेराज,मोहम्मद सेराज,मोहम्मद दानिश,मोहम्मद अमन,मोहम्मद शाहनवाज अता शिक्षक,मोहम्मद आसिफ अता,मोहम्मद एहतशाम,मोहम्मद शादाब रिंकू,मोहम्मद गोलू ,बहन शगुफ़्ता परवीन शिक्षिका,फिरदौस परवीन शिक्षिका,बेबी खातून,रोजीदा खातून,खदीजा खातून शिक्षिका,रौशन खातून सेविका,संजीदा खातून शिक्षिका,अंजुम परवीन शिक्षिका,तरन्नुम परवीन शिक्षिका,एरम अता,साइस्ता परवीन,रेश्मा परवीन,चांदनी परवीन,हेना परवीन,सना परवीन,सिम्मी परवीन,बहनोई मोहम्मद साबिर,मोहम्मद सरफराज,मोहम्मद खालिद,मोहम्मद महबूब पुलिस,मोहम्मद मजहर,मोहम्मद इम्तियाज,मोहम्मद सरताज,मोहम्मद परवेज,मोहम्मद रिजवान,मोहम्मद शहाबुद्दीन,मोहम्मद अदनान उर्फ राजा बाबू,भांजा मोहम्मद जीशान,मोहम्मद फैजान,मोहम्मद सैफ,भांजी नेहा परवीन,उजमा परवीन,आफिया परवीन उर्फ एंजल,भाभी गजाला शाहीन,हेना परवीन,भतीजा एलाही बख्श उर्फ सदफ,अब्दुर्रहमान,भतीजी जोया परवीन,निदा शाहीन आदि के नाम शामिल हैं।आपको बता दें कि मोहम्मद शादाब मेरा ममेरा भाई है।

1 टिप्पणी:

Type you comments here!