Breaking News

श्रीमद्भागवत सप्ताह ज्ञान महायज्ञ जारी


सीतामढ़ी बैरगनिया संवाददाता

जवाहरनगर बैरगनिया: कथा प्रारम्भ फागुन शुक्ल पक्ष एकम उपरांत द्वितीय गुरुवार से 3/3/2022/ से फागुन शुक्ल पक्ष सप्तमी,  रोज दिनांक 9/3/2022 को समाप्त होगी। पंडित दिलपी जी द्वारा बताया गया है कि भगवान् श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को सुनाया गया यह गीता का उपदेश समस्त मानव जाति के कल्याण का मार्गदर्शक है। यह हमें बताता है कि हम कौन हैं,कहाँ से आये हैं, यहाँ पर कैसे रहना है और एक दिन फिर कहाँ जाना है। 5 हज़ार 5 सौ साल पहले इसमें जो बातें कही गयी थी वो आज भी उतनी ही कारगर सिद्ध होती हैं यह एक ऐसा संविधान है जिसमे अभी तक कोई संशोधन नहीं हुआ है और ना ही कभी होगा क्योकि इसके रचयिता स्वयं भगवान विष्णु हैं।

भगवद्गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि जो मानव इस ग्रन्थ का नियमित पाठ करेगा और लोगों को भी इसके बारे में बताएगा वह मुझे प्रिय होगा और मुझको प्राप्त कर पायेगा।

नीचे दिये गये मंत्र का नियमित जाप करने से मानव जीवन कल्याणकारी हो जाता है और सुख की प्राप्ति होती है,भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि यह मंत्र नहीं बल्कि महामंत्र है,इसके जपने में ही तेरा कल्याण है।

  इस महामंत्र का जाप करें

  हरे कृष्ण-हरे कृष्ण,कृष्ण-कृष्ण हरे-हरे…..हरे राम-हरे राम,राम-राम हरे-हरे

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!