Breaking News

खरमास समाप्त होते ही शुभ कार्य पर लगी पाबंदियां समाप्त, गूंज उठी शहनाई


रिपोर्ट चारोधाम मिश्रा: 
सूर्य
देव 14 अप्रैल 2022 को मेष राशि में प्रवेश कर गए हैं । इसी के साथ खरमास समाप्त हो गया और शुभ कार्यों पर लगी पाबंदियां भी खत्म हो गई । बता दें कि पिछले महीने सूर्य के मीन राशि में प्रवेश करते ही खरमास लग गया था, जिसके बाद शादी-विवाह जैसे तमाम शुभ कार्यों पर रोक लग गई थी । अब खरमास समापन से लेकर देवशयन एकादशी तक पूरे चार महीने के लिए सभी शुभ कार्यों से पाबंदी हट गयी है ।

4 महीने में 41 विवाह मुहूर्त :-

विक्रम संवत्सर 2079 में खरमास की समाप्ति के बाद शादी-विवाह, देव प्रतिष्ठा, भवन निर्माण, गृह प्रवेश आदि जैसे मांगलिक कार्य 14 अप्रैल से प्रारंभ हो गए । 10 जुलाई को देवशयनी एकादशी से चतुर्मास लगते ही शुभ कार्य पुन: बंद हो जाएंगे । ये पाबंदी 4 नवंबर को देवउठनी एकादशी तक रहेगी । खरमास से देवशयनी एकादशी तक 4 महीने में विवाह के कुल 41 शुभ मुहूर्त होंगे ।

विवाह मुहुर्त:-

अप्रैल : 15, 17,19 से 23, 27,28 अप्रैल

मई : 2 से 4, 9 से 20, 24 से 26, 31 मई

जून : 1, 5 से 17, 21 से 23, 26 जून

जुलाई : 2, 3, 5, 6, 8 जुलाई


ज्योतिषशास्त्र के जानकार आचार्य पंडित विजय कुमार मिश्रा का कहना है कि सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 अप्रैल को सुबह करीब 8 बजकर 56 मिनट पर कर गए । इसके बाद जो भी विवाह के शुभ मुहूर्त हैं, उनमें वर के लिए सूर्य और चंद्र की शुभता को ध्यान में रखना होगा । जबकि वधु के लिए बृहस्पति स्वराशि में होने के कारण अशुभ होते हुए भी शुभ रहेंगे । ऐसे में वधु के विवाह के लिए त्रिबल शुद्ध मुहूर्त निकालने के लिए सिर्फ चंद्रबल देखने की ही आवश्यता रह जाएगी ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!