Breaking News

10 दिन पूर्व हुई हत्या की गुत्थी सुलझाते हुए सिम्भावली पुलिस व एसओजी टीम ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार


यूपी हापुड़ से संवाददाता विशू अग्रवाल की रिपोर्ट

पुलिस अधीक्षक कार्यालय में हुई प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर ने बताया कि थाना सिम्भावली में 10 दिन पूर्व एक व्यक्ति को गोली मारकर आरोपी फरार हो गए थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव की शिनाख्त कराई। मृतक की पहचान बाबूराम निवासी अमरोहा के रूप में हुई।पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर जांच शुरू कर दी थी। परन्तु पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला। तद्पश्चात पुलिस अधीक्षक ने एसओजी प्रभारी धर्मेंद्र सिंह की टीम को लगाया धर्मेंद्र ने जांच पड़ताल शुरू की तो सीसीटीवी में दो बाइक रैश लगाती हुई पाई गई। जिनको सिम्भावली से गढ़मुक्तेश्वर तक लगे सीसीटीवी कैमरों में देखा गया। जिसमें बाइक सवारों ने एक शराब की दुकान पर शराब पी थी। आरोपियों की पहचान के लिए एसओजी प्रभारी ने दो युवकों को हिरासत में लिया कड़ी पूछताछ में दोनों युवक टूट गए।पूछताछ में आरोपियों ने अपने नाम अनुज निवासी अगौता व संदीप निवासी बीबीनगर जनपद बुलंदशहर बताते हुए स्वीकार किया कि दस दिनों पूर्व हुई हत्या में दोनों संग दो लोग और शामिल थे। उन्होंने जो कहानी बताई उसने सबको अचंभित कर दिया।

आरोपियों के अनुसार उनका साथी प्रदीप पुत्र खत्म होने पर कुछ दिनों और ड्यूटी नहीं जाना चाहता था। उसने प्लान बनाया कि गंगा किनारे होने वाले किसी शव की फोटोज लेकर प्लाटून में शेयर कर बता देंगे कि उनके यहाँ परिचित की मौत हो गई है। जिसके बाद चारों ने मिलकर शराब पी। वापस आने के दौरान वैट नहर पर तेज गति में होने के चलते मृतक द्वारा साइड ना देने पर प्रदीप ने रिवॉल्वर से बाइक सवार बाबूराम पर पांच गोलियां दाग दी जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। गोली मारकर आरोपी मौके से फरार हो गए।

पुलिस अधीक्षक ने आगे जानकारी दी कि मृतक बाबूराम को गोली मारने वाला सेना में कश्मीर में तैनात है। गोलीकांड के बाद आनन फानन में वह अपनी प्लाटून में वापस लौट गया। पुलिस सेना के अधिकारियों से सम्पर्क कर आरोपी फौजी की गिरफ्तारी में लगी है जबकि एक आरोपी अभी फरार है जिसकी गहनता से तलाश जारी है।पुलिस अधीक्षक ने टीम को 10 हजार रुपये के पुरुस्कार की भी घोषणा की है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!