Breaking News

बुलंद शहर का नाम बरन किए जाने की मांग: ओंकार नाथ बरनवाल


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट

पुरे भारत वर्ष में फैले बरनवाल समुदाय के आदि पुरुष महाराजा अहिवरन का कीला एवं टावर आज भी उप्पर कोट बुलंद शहर में स्थित है । मुस्लिम हमलावरों ओर उसके द्वारा किए गए जबरन धर्म परिवर्तन के कारण अधिकतर बरनवाल समाज शहर को छोड़कर अन्यत्र पुर्व दीसा की ओर पलायन कर गए । जिसमे गोरखपुर , देवरिया , मिर्जापुर , सुल्तानपुर , बिहार , झारखंड और उत्तर प्रदेश सहित देश के अलग अलग शहरों में जाकर बस गए । इसके बावजूद भी क्ई बरवाल समुदाय के लोगों ने बुलंद शहर ओर उसके आस पास के इलाकों में अपनी उपस्थिति बनाए हुए हैं और आज भी पुश्तैनी व्यवसाय में अपना नाम कायम रखें हैं । उक्त जानकारी देते हुए झामुमो के बिहार प्रदेश संयोजक सह केंद्रीय समिति सदस्य श्री ओंकार नाथ बरनवाल ने बताया कि मुसलमान बन चुके बरनवालों ने अपना उपनाम बरनी कर लिया है । साथ ही बुलंद शहर में बसे बरनवाल बंधुओं के पास वहां का कानून की जिम्मेदारी आज से कुछ दशक पहले तक थी । लेकिन बुलंद शहर से प्रस्थान करने वाले बरनवाल समुदाय के लोग देश के हरेक हिस्से में मौजूद हैं और सरकारी सेवाओं , शिक्षा , व्यापार एवं तकनीकी क्षेत्रों में अपनी मजबूत पकड़ बनाए हुए हैं । समय है कि बरनवाल समुदाय को भी उसके अपने इतिहास पर न्याय मिले और उनके पुर्वज भुमि को पुनः वही नाम मिले जो उसका वास्तविक नाम हे । श्री ओंकार नाथ बरनवाल ने माननिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी , माननीय गृह मंत्री श्री अमित शाह एवं माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी जी महाराज से आग्रह पूर्वक निवेदन करते हुए बरनवाल समुदाय का गौरव वापस करने एवं बुलंद शहर का नाम बदलकर बरन शहर करने की मांग की है ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!