Breaking News

सैनिक का शव गांव में पहुंचते ही मचा चीख पुकार गांव में मातमी माहौल

  • पत्नी, बेटी व बेटा सहित परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल
  • गांव में पसरा मातम सबकी आंखें हुई नम 


बिक्रमगंज
(रोहतास)। काराकाट प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत गोड़ारी नगर पंचायत के चिल्हा गांव में सैनिक की शव बुधवार की सुबह 7 बजे के करीब पहुंचते ही चीख पुकार मच गया । बतादें कि सैनिक चिल्हा गांव निवासी 45 वर्षीय रामधन पासवान पिता स्व. इंद्रदेव पासवान का बेटा बताया जाता है । शव पहुंचने की खबर मिलते ही गांव से लेकर आस पास क्षेत्र सहित जनप्रतिनिधी, रिटायर्ड फौज के जवान शव की अंतिम दर्शन को पहुंच गये । सेना के जवानों ने सैनिक ताबूत में रखे शव को खोलकर सभी को अंतिम दर्शन कराया । 


अंतिम दर्शन के लिए जैसे ही पत्नी उर्मिला देवी, 18 वर्षीय रुही,15 वर्षीय रिया व 10 वर्षीय बेटा सनय कुमार शव के पास पहुंचे तो दहाड़ मारकर रोने बिलखने लगे वहीं सभी की आंखें नम हो गई । अंतिम दर्शन के बाद सैनिक के शव को सेना के जवानों ने शव को सलामी दिया ।सेना के जवान की मौत का कारण बताया गया कि कुछ माह से बीमार थे , जिनका इलाज चल रहा था लेकिन 3 मई को राजस्थान के सेना के अस्पताल में इलाज के दौरान अचानक मौत हो गई । सैनिक की मौत के बाद सेना के जवानों नायक सूबेदार सुखविंदर सिंह स्टेशन हेड क्वार्टर गया के नेतृत्व में सैनिक का शव पैतृक गांव चिल्हा लाया गया । सेना के जवानों के साथ सैनिक के शव यात्रा में पहुंचे सभी लोगों ने रामधन पासवान अमर रहे के गगनभेदी नारे लगाये शव को अंतिम संस्कार स्थल के पास ले जाया गया । परिजनों ने बताया कि सैनिक रामधन पासवान वर्ष 1995 में सेना में भर्ती हुए थे जो वर्तमान में 452 आर्टलरी रेजिमेंट अलवर राजस्थान में सूबेदार पद पर कार्यरत थे । ये पांच भाइयों में तीसरे स्थान पर थे इनका दो बेटी व एक बेटा है ।

सैनिक के शव को दी गई श्रंद्धांजलि: - 


सबसे पहले सेना के जवानों व सेना के अधिकारी ने सैनिक के शव पर बारी बारी से पुष्प अर्पित कर नमन करते हुए श्रंद्धाजलि दी गई । इसके बाद रोहतास जिला के सेवानिवृत सैनिक संघ के जिलाध्यक्ष मुखराम राय, महासचिव मनोज कुमार पांडेय,अनील सिंह, विनोद सिंह, मृत्युंजय सिंह, अभय कुमार सिंह, वीरेंद्र कुशवाहा अभय कुमार सिंह, शशि भूषण सिंह, काराकाट प्रखंड प्रमुख पति नरायण पासवान, गोड़ारी पंचायत के पूर्व मुखिया प्रतिनिधि मुन्ना भारती ने पुष्प अर्पित कर श्रंद्धाजलि दी । 

एकलौते बेटे ने दी मुखाग्नि :- 


10 वर्षीय सनय कुमार ने पिता को मुखाग्नि दिया । मुखाग्नि देते ही सेना के जवानों ने तीन राउंड हवाई फायरिंग कर शव को सलामी दी गई । 

सैनिक के सम्मान में नहीं पहुंचे स्थानीय प्रशासन :


सैनिक के शव गांव में पहुंचा तो स्थानीय प्रशासन का लोग इंतजार करते रहे लेकिन स्थानीय प्रशासन का एक भी अधिकारी चिल्हा गांव नहीं पहुंचे । यहां तक की कई जन प्रतिनिधि फोन से सूचना भी दिए लेकिन कोई नहीं पहुंचा जिसका सभी लोगों में नाराजगी रही । बताया जाता है कि सैनिक के शव का जब अंतिम संस्कार हो गया तब काराकाट प्रशिक्षु बीडीओ कुमार विशाल व स्थानीय पुलिस पहुंच परिजनों से मिलकर शोक संवेदना प्रकट किया ।

1 टिप्पणी:

Type you comments here!