Breaking News

सलोन सीएचसी अपने विवादित कार्यों के द्वारा हमेशा सुर्खियों में रहना आदतों में शुमार


उन्नाव जिला संवाददाता अवधेश कुमार की रिपोर्ट

संवेदनहीनता की मिसाल कायम करते सीएचसी सलोन के डॉक्टर, घायलों को इलाज एवं मेडिकल के लिए अपने समय के अनुसार बुलाते हैं । 

जहां एक और सुबे के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक स्वास्थ्य महकमे को लेकर काफी संजीदा है वही जिले के स्वास्थ्य कर्मियों पर कोई असर नहीं दिखाई दे रहा है और लगातार मानवता को शर्मसार करने वाले कारनामे सामने आ रहे हैं। 

 सलोन सीएचसी अपने विवादित कार्यों के द्वारा हमेशा सुर्खियों में रहता है चाहे डॉक्टरों द्वारा बाहर से दवा लिखने का काम हो या तैनाती अन्य जगह पर हो लेकिन रसूख के बल पर प्रैक्टिस सीएचसी पर करने का आज हद तब हो गई जब घायल अवस्था में इलाज और मेडिकल कराने सलोन सीएचसी पर पहुंचे व्यक्ति के साथ हुआ । रायबरेली जिले में सलोन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर संवेदनहीनता की मिसाल कायम करने वाला एक वीडियो सामने आया है जिसमें मारपीट में घायल युवक को रायबरेली जिले के सलोन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात डॉ अमित सचान द्वारा मेडिकल के लिए रात में मना कर दिया जाता है और उसे नौ बजे दिन में आने के लिए कहा जाता है लेकिन सुबह नौ बजे पहुंचने के बाद भी घायल युवक को कई घंटे बैठाए रखा जाता है, और उसे दो बजे के बाद मेडिकल करने की बात कही गई। जिससे संवेदनहीनता की एक मिसाल कायम होती नजर आ रही है।

दरअसल पूरा मामला सलोन कोतवाली क्षेत्र के पूरे घोसी का है जहां पर 35 वर्षीय समीम घोसी किसी काम से भोला गंज चौराहे गया था कुछ लोगों द्वारा उसके साथ लाठी-डंडों से मारपीट की जाती है जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो जाता है मौजूद लोग उसे कोतवाली सलोन ले आते हैं जहां पर उसे मेडिकल के लिए सीएचसी सलोन भेजा जाता है, लेकिन वहां पर तैनात डॉ अमित सचान द्वारा रात में मेडिकल करने से मना कर दिया जाता है वहीं घायल युवक बाहर एक प्राइवेट अस्पताल में पट्टी करवा कर घर चला जाता है, जिसके बाद सुबह आने के बाद उसे कई घंटों तक बैठाया जाता है प्रदेश में उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक जहां पर प्रदेश में बिगड़ी स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने के लिए अस्पतालों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं जिम्मेदारों पर बड़ी कार्यवाही कर रहे हैं क्या सलोन सीएचसी में तैनात डॉक्टर इससे बेखबर है.? अब देखने वाली बात यह होगी कि ऐसे गैर जिम्मेदार और संवेदनहीन डॉक्टरों पर क्या प्रदेश की योगी सरकार व स्वास्थ्य मंत्री क्या कदम उठाते हैं ?

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!