Breaking News

अधिकतर गर्भवतिओं में पाई गई आयरन की कमी, डाक्टरों ने जच्चा बच्चा को स्वस्थ रहने के लिए पौष्टिक आहार लेने को बताया


वैशाली:
प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षा दिवस पर सोमवार को महुआ पीएचसी पर 172 गर्भवतियों की स्वास्थ्य जांच की गई। यहां स्वास्थ्य जांच के लिए उमड़ी भीड़ से उहापोह की स्थिति बनी रही। उमस भरी गर्मी में भी गर्भवतियों ने स्वास्थ जांच करा कर ही वापस घर लौटी। यहां जांच के दौरान अधिकतर गर्भवतियों में आयरन और वजन की कमी पाई गई।

बताया गया कि प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षा लाभ दिवस पर गर्भवतियों की स्वास्थ्य जांच कर जच्चा बच्चा को स्वस्थ रहने के लिए विभिन्न जानकारियां दी जाती है।यहां गर्भवतियों को वजन, ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, एचआईवी, ब्लड ग्रुप सहित विभिन्न प्रकार की जांच की जाती है। यहां पर उन्हें जांच कर दवाएं भी दी गई। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ कमलेश कुमार और स्वास्थ प्रबंधक प्रकाश कुमार के नेतृत्व में डॉक्टरों ने सभी 172 गर्भवतियों की स्वास्थ्य जांच की। डॉ सिखा प्रिया और डॉ मंदाकिनी ने गर्भवती कि स्वास्थ्य जांच की। यहां जांच में अधिकतर को आयरन की कमी के साथ वजन की भी कमी पाई गई। डॉक्टरों ने बताया कि इस अवस्था में महिलाओं को भरपेट भोजन में हरा साग-सब्जी, फल, दूध, अंडा, मांस, मछली का सेवन जरूरी है। महिलाओं को आयरन की गोली के साथ विभिन्न दवाइयां दी गई। स्वास्थ्य जांच कराने आई गर्भवतियों को बताया गया कि महिलाओं के लिए प्रसव का पल काफी कष्टदायक होता है। इस वक्त उन्हें स्वस्थ रहना जरूरी होता है। जिससे आने वाला शिशु स्वस्थ होता है। उन्हें स्वस्थ रहने के लिए समय-समय पर पौष्टिक आहार लेने को बताया गया। यहां उमस भरी गर्मी में भी महिलाएं खड़ी रह कर अपना स्वास्थ जांच कराई। हालांकि स्वास्थ्य जांच कराने के दौरान उन्हें विभिन्न कठिनाइयों से भी गुजरना पड़ा। अस्पताल में सुविधाओं की कमी को लेकर गर्भवतियों ने सवाल भी खड़ा किया। अस्पताल में उन्हें बैठने, छांव, पेयजल, विश्राम आदि की सुविधा नदारद दिखी।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!