Breaking News

बाढ़ पूर्व तैयारी की जानकारी लिए वैशाली जिलाधिकारी समीक्षात्मक बैठक समीक्षात्मक बैठक



रिपोर्ट प्रभंजन कुमार हाजीपुर , वैशाली // जिलाधिकारी यशपाल मीणा के द्वारा अपने कार्यालय कक्ष में अपर समाहर्ता , प्रभारी पदाधिकारी आपदा प्रबंधन एवं अन्य जिला स्तरीय पदाधिकारियों के साथ बाढ़ पूर्व तैयारियों की जानकारी ली गयी। इस अवसर पर अनुमंडल पदाधिकारी महनार एवं वैशाली जिला के सभी अंचलाधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हुए थे। प्रभारी पदाधिकारी आपदा प्रबंधन स्वप्निल के द्वारा बताया गया कि बाढ़ राहत सामग्रियों के क्रय के लिए दर निर्धारण हेतु निविदा हो गयी है। इस पर जिलाधिकारी ने जानना चाहा कि दर क्या पिछले वर्ष के बराबर हैं या अधिक है। प्रभारी पदाधिकारी ने बताया कि दर पिछले वर्ष के अनुसार ही है , अधिक नहीं है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिला को 12520 पोलिथीन सिट्स उपलब्ध है । इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि इससे संबंधित एक पत्र जिलाधिकारी मुजफ्फरपुर को लिख दें ताकि घटने की स्थिति में वहाँ से सिट्स प्राप्त हो सकें । जिलाधिकारी ने जानना चाहा कि पिछले वर्ष बाढ़ के समय कितनी नावों का उपयोग हुआ था । इस पर प्रभारी पदाधिकारी ने बताया कि कुल 366 नावों का उपयोग किया गया था । उन्होंने कहा कि वाया नदी में अधिक बाढ़ आने के कारण कुल 7 प्रखंड प्रभावित हुए थें और बाढ़ का पानी भी लम्बे समय तक लगा रह गया था । उन्होंने कहा कि इस बार भी नावों के लिए अंचलाधिकारियों के स्तर से एकरारनामा किया जा रहा है । इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि सभी नावों का भौतिक सत्यापन अंचलाधिकारी स्वयं करेंगे तथा सभी नाव एवं नाव मालिक तथा नविक से संबंधित डाटा तैयार कराकर जिला के बेबसाइट पर अपलोड करा दिया जाय । नावों का डेटाबेस डीआईओ को बनाने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी के द्वारा पिछली बाढ़ के समय बनाये गये सामुदायिक रसोई के संचालन तथा आश्रम स्थलों के बारे में जानकारी ली गयी एवं निदेश दिया गया कि इससे संबंधित तैयारी शीघ्र हीं पूर्ण कर ली जाय । जीआर वितरण की जानकारी प्राप्त करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि इसकी सूची को अंचलाधिकारी अतन करें । इस कार्य को अंचलाधिकारी स्वयं देखें और इसे गंभीरता से लें । सभी एसडीओ एवं डीसीएलआर को भी इसे देखने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी ने कहा कि प्रखंडों के वरीय पदाधिकारी इस सूची का पाँच प्रतिशत इन्ट्री स्वयं जाँच करेंगे । प्रभारी पदाधिकारी आपदा प्रबंधन के द्वारा बताया गया कि पिछली बाढ़ के समय कुल 158 आश्रय स्थली बनायी गयी थी । जिलाधिकारी ने सूची के अनुसार भौतिक रूप से इन स्थलों की जाँच कर लेने और इसे संबंधित पोर्टल पर अपलोड करने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी ने तटबंधों की सुरक्षा के बारे में जानकारी प्राप्त की एवं कल हीं तटबंधों का स्वयं निरीक्षण करने की बात कही । जिलाधिकारी ने कहा कि पदाधिकारी टीम भावना से अपसी समन्वय स्थापित कर कार्य करें.

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!