Breaking News

हिंदू जागरण मंच के तत्वाधान में " हरिपुर का नाम " नामक पुस्तक के लोकार्पण समारोह का उद्घाटन


हाजीपुर :-
हरिपुर के चित्रांश सामुदायिक सभागार में विधि प्रकोष्ठ, हिंदू जागरण मंच के तत्वाधान में " हरिपुर का नाम " नामक पुस्तक  के लोकार्पण समारोह का उद्घाटन बिहार सरकार के कानून मंत्री माननीय प्रमोद कुमार जी ने किया।  विशिष्ट अतिथि सीबीआई न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश माननीय श्याम किशोर साह , सेवानिवृत्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश माननीय ब्रज किशोर गुप्ता जी एवं सेवानिवृत्त  जिला एवं सत्र अपर न्यायाधीश माननीय गंगा प्रसाद, बिदुपुर कबीर मठ के आचार्य महंत पूज्य रविंद्र ब्रह्मचारी जी तथा मुख्य अतिथि प्रख्यात समाजसेवी श्री अमित सिंह मिंटू जी , मुख्य वक्ता  माननीय सूबेदार सिंह क्षेत्र प्रमुख धर्म जागरण समन्वय की गरिमामय उपस्थिति रही। शोधपूर्ण पुस्तक के लेखक विनोद कुमार सिंह यादव ने पुस्तक में हरिपुर की ऐतिहासिक धार्मिक घटनाओं का वर्णन किया है जिसमें आज से 617 वर्ष पूर्व विदेशी आक्रांता हाजी इलियास समसुद्दीन ने इसे ध्वस्त कर अपने नाम पर हाजीपुर नामकरण किया था। देश में सांस्कृतिक पुनर्जागरण की बेला में जब फैजाबाद से प्राचीन अयोध्या इलाहाबाद से प्राचीन प्रयागराज बांबे से मुंबई,  मैसूर से कर्नाटक, मुगलसराय से दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, किया जा सकता है तब विदेशी हमलावरों के नाम पर हाजीपुर का नाम भी हमारे सांस्कृतिक नाम जहां हरि प्रकट भूमि कोनहारा घाट है इसी के नाम पर लाखों वर्षों से इसे हरिपुर कहा जाता रहा इसकी पुनर प्रतिस्थापन के लिए पिछले 40 वर्षों से आंदोलन चलाए जा रहे हैं इस आंदोलन का केंद्र हरिपुर विधिज्ञ संघ भवन रहा है जहां इस आंदोलन की शुरुआत करते हुए न्याय के परिसर में न्याय का बाट जोह रहे हरिपुर को न्याय देने के लिए विनोद कुमार यादव द्वारा प्रारंभ की गई अभियान को तत्कालीन सेवानिवृत्त चार जिला एवं सत्र न्यायाधीशों की अगवाई में जन जागरण की शुरुआत हुई थी जिसमें स्वर्गीय गोपीनाथ गुप्ता, लाला राधा कुमार सिन्हा, विष्णु देव दत्त झा ,एवं दीनानाथ श्रीवास्तव प्रमुख नाम थे उन दिनों के रिटायर्ड आईएएस महावीर भगत जी की अध्यक्षता में हुए आंदोलन ने सफलता प्राप्त की और ६ लाख हस्ताक्षर  लेकर माननीय राज्यपाल महोदय को सौंपा गया था । हरिपुर के अधिवक्ताओं ने सर्वसम्मति से सर्वप्रथम हरिपुर बार एसोसिएशन के भवन में हरिपुर नाम को स्वर्ण अक्षरों में अंकित किया । गांधी चौक नागेश्वरनाथ महादेव मंदिर ,हाजीपुर रेलवे स्टेशन का दुर्गा मंदिर , पतालेश्वर मंदिर सहित अनेकों संस्थान ने भी हरिपुर नाम को सम्मान देते हुए अंकित किया । उन सभी क्रांतिकारी लोगों मे सर्वश्री तत्कालीन सचिव श्याम किशोर ठाकुर अधिवक्ता ,शशांक शेखर सिंह अधिवक्ता, अधिवक्ता राकेश रोशन जी ,पहलाद प्रसाद चौरसिया ,संजीत कुमार, उमाशंकर सिंह अधिवक्ता, शशि  भूषण सिंह, नागेश्वर नाथ मंदिर के सतीश कुमार चंद्रा ड्रग, दुर्गा मंदिर स्टेशन के गणेश कुमार साह पातालेश्वर मंदिर के श्री लक्ष्मण राय सम्मानित किए गए।  हिंदू पुत्र के संस्थापक राजीव ब्रह्मर्षि द्वारा विशाल जुलूस निकाल कर प्रचार प्रसार किया गया था इन्हें भी सम्मान दिया गया। चारों दिवंगत न्यायाधीशों , महावीर भगत ,प्रवीण उपाध्याय अधिवक्ता, चंद्र केतु शर्मा अधिवक्ता , महावीर सिंह  अधिवक्ता ,लॉर्ड वीरेंद्र सिंह अधिवक्ता के किए गए योगदान को स्मरण कर उनके सम्मान में एक मिनट का मौन रखा गया। पुस्तक के लेखक श्री विनोद कुमार सिंह यादव ने पुस्तक के माध्यम से भारत सरकार रेल मंत्रालय से हाजीपुर रेलवे स्टेशन का नाम हरिपुर जंक्शन करने रेलवे स्टेशन परिसर में गज ग्राह की जो पहले कास्ट निर्मित मूर्ति लगी हुई थी उसे पुनः विशाल रूप में स्थापित करने, कोनहारा घाट में पर्यटन मंत्रालय द्वारा विशाल गज ग्राह की मूर्ति स्थापित करने तथा हाजीपुर का नाम प्राचीन हरिपुर करने की मांग को दोहराया। उपस्थित सभागार में जन समुदाय के बीच सर्व सम्मति से प्रस्ताव लिया गया कि कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर प्रत्येक वर्ष हरी प्रकट महोत्सव मनाया जाएगा।  उपस्थित सभी हिंदू वादी राष्ट्रवादी सामाजिक आध्यात्मिक शैक्षणिक संगठनों ने एक लाख हरिपुर लिखे हुए स्टीकर को जन जन तक पहुंचाने का संकल्प दोहराया। विधिज्ञ संघ के सचिव राकेश रोशन मुनचुन जी द्वारा विधिज्ञ संघ भवन के सभी दिशाओं में तथा सभी प्रवेश द्वारों पर हरिपुर नाम को स्टील प्लेट में लिखबाए जाने की संकल्प पर सभी ने प्रसन्नता व्यक्त की। कानून मंत्री श्री प्रमोद कुमार जीने हरिपुर नाम के साथ न्याय करने का तथा हरिपुर नाम को कानूनी जामा पहनाने का आश्वासन देते हुए इसे बिहार सरकार एवं केंद्र सरकार तक भेजने का बात कही उन्होंने कहा कि किसी भी राष्ट्र संस्कृति की रक्षा तभी संभव है जब हम उसे आने वाली पीढ़ियों से जोड़ सकेंगे, दुनिया के अनेकों देशों ने अपने प्राचीन नाम को स्वीकार किया जैसे निप्पन से जापान किया गया वर्मा से म्यानमार  किया गया। देश और दुनिया के अनेक स्थान ने अपने प्राचीन जड़ों को सीचते हुए नाम बदले हैं, इसलिए हरिपुर नाम को सम्मान देना हम सब का कर्तव्य है।कार्यक्रम की अध्यक्षता विधि प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष विपिन कुमार सिंह ने किया , वैशाली जिला विधिज्ञ संघ के सचिव तथा कार्यक्रम के स्वागताध्यक्ष राकेश रोशन सिंह ने आगत अतिथियों का स्वागत किया । कार्यक्रम में विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक रवि शंकर सिंह ,भूमि संरक्षण प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजक अनिल कुमार गुड्डू ,जिला उपाध्यक्ष अनुपम शुक्ला ,आलोक स्वामी ,जिला मंत्री धनंजय कुमार, राखी जयसवाल ,नीरू कुमारी, शिव प्रताप मिश्र ने आगत अतिथियों का अंग वस्त्र देकर स्वागत किया। वंदे मातरम गायन से कार्यक्रम का समापन एवं राखी जयसवाल ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!