Breaking News

मानव जोर लगाता है तो पत्थर भी पानी बन जाता है, महिला के जज्बे को लोग कर रहे सलाम


वैशाली:
मानव जोर लगाता है तो पत्थर भी पानी बन जाता है, महिला के जज्बे को लोग कर रहे सलाम। कहा गया है जब मानव जोर लगाता है तो पत्थर भी पानी बन जाता है। जब खासकर महिलाएं किसी कार्य को करने के लिए अग्रसर होती है तो उसे कर पाना काफी मुश्किल ही नहीं होता बल्कि कई सारी बाधाएं भी आती हैं। जबकि महुआ के एक जाने-माने डॉ महेश चौधरी की पत्नी शिवानी चौधरी ने अपनी हठधर्मिता से काफी कुछ करके दिखाया है। रविवार को उन्होंने हिंदुस्तान को बताया कि महिलाएं हर क्षेत्र में अग्रसर हैं। अगर उनमें कुछ करने की ललक हो तो कोई भी कार्य भारी नहीं है।

उन्होंने अपने घर की छत पर हरी सब्जियों की छोटी सी बागवानी लगाई है। जिससे उन्हें सुबह शाम के लिए ताजी और शुद्ध सब्जियां निकल जा रही है। उन्होंने टब में मिट्टी भरकर उसमें लौकी, नेनुआ, करैला, भिंडी, टमाटर, हरी मिर्च आदि लगाए हैं। जैविक खाद से लगाई गई इन सब्जियां उनके छत के बागवानी में लहलहा रही है। जिसे देखने के लिए लोग सिर्फ पहुंच ही नहीं रहे बल्कि उनके इन कार्यों को सैल्यूट भी कर रहे हैं।

      बताते चलें की महुआ गोला रोड स्थित देव हॉस्पिटल के संचालक और चिकित्सा पदाधिकारी डॉ महेश चौधरी की पत्नी शिवानी ने अपने छत पे बाग लगाई हैं। जहां अपने घर के लोगों के लिए हरी सब्जियों का उत्पादन कर रही हैं। उन्होंने टब में मिट्टी रखकर अपने छत पर सब्जियों की बागवानी लगाकर उसका उत्पादन कर रही हैं। उनके छत पर ही हरी हरी सब्जियां निकल रही हैं। उसे वे दोनों वक्त परिवार के बीच भोजन में परोस रही हैं। जिससे उन्हें हाट दौड़ना समाप्त ही नहीं हुआ बल्कि स्वच्छ और ताजा सब्जी उनके थाली में मिल रही है। शिवानी चौधरी ने बताया कि उन्हें खेती का ज्ञान मायके से ही रहा है। उनके पिताजी अच्छे किसान रहे हैं। जिनके द्वारा हरी सब्जियों की खेती की जाती है। जिसे वह देखा करती थी।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!