Breaking News

चयनित सभी अमृत सरोवरों को 15 अगस्त के पहले पूर्ण करायें - जिलाधिकारी


रिपोर्ट प्रभंजन कुमार

 हाजीपुर:-वैशाली जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा के द्वारा समाहरणालय सभागार में उप विकास आयुक्त श्री चित्रगुप्त कुमार की उपस्थिति में मनरेगा के कार्यक्रम पदाधिकारी (पीओ) और पंचायत रोजगार सेवकों (पीआरएस) के साथ बैठक कर निदेश दिया गया कि जिला में चयनित सभी 75 अमृत सरवरों का निर्माण कार्य आगामी 15 अगस्त से पहले पूर्ण करा लिया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि एक से दो दिनों के अंदर अमृत सरोवर के लिए चिन्हित सभी स्थलों का भौतिक सत्यापन कर लिया जाय।भौतिक सत्यापन के समय क्या - क्या जाँच करनी है और मापी कैसे उठानी है उसके बारे में भी बताया गया।जिलाधिकारी ने कहा इन तालाबों का निर्माण कम - से - कम एक एकड़ में होना है जिसका प्राक्कलन तैयार कर तुरंत भेजा जाये और कार्यों को प्रारंभ कराया जाय।भौतिक सत्यापन के बाद सभी पीओ एक पेज का नोट बनायेंगे और उसे मनरेगा के वाट्सऐप ग्रूप पर डालेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि यहाँ कार्य करने वाले सभी श्रमिकों को जॉब कार्ड उपलब्ध करा दिया जाय।ध्यान रहे कि इन कार्यों में जेसीबी का उपयोग बिलकुल वर्जित है। जिलाधिकारी के द्वारा इन सरोवरों के पास वृक्षारोपण का कार्य कराने एवं वृक्षों में मुख्य रूप से नीम,पीपल एवं बर का वृक्ष लगाने का निदेश दिया गया।सभी सरोवरों से एक - एक स्थानीय जनप्रतिनिधि को जोड़ा जाय और इन जन प्रतिनिधियों को भी प्रशिक्षण दे दिया जाय।प्रशिक्षण प्रखंड स्तर पर दिया जा सकता है। जिला स्तर पर भी प्रशिक्षण की अलग से व्यवस्था करायी जाय इसके लिए उप विकास आयुक्त को निदेश दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक तालाब के पास 15 अगस्त को झण्डोतोलन कराया जाना है जिसके लिए वहाँ पर प्लेटफार्म बनाया जाना जरूरी है।यह प्लेटफार्म वहीं पर बनाया जाय जहाँ पर मनरेगा के तहत होने वाले सरोवर निर्माण का बोर्ड लगा है। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी सरोवरों का इनलेट और आउटलेट देख लिया जाय और कहीं अतिक्रमण है तो तुरंत संबंधित अंचलाधिकारी को बताकर उसे हटवाया जाय। सभी पीआरएस और पीओ को भारत सरकार का मोबाईल ऐप इन्स्टॉल करने का निदेश दिया गया और कहा किया कि मनरेगा के तहत् हुए सभी कार्यों का निरीक्षण करने के बाद इस ऐप पर निरीक्षण प्रतिवेदन डाला जाय।उप विकास आयुक्त को निदेश दिया गया कि जिनके द्वारा नियमित जाँच नहीं की जा रही है उन्हें चिन्हित कर कार्रवाई की जाय।वैशाली जिला में बनने वाले 75 अमृत सरोवर जिला के 75 प्रचायतों में चिन्हित किये गये हैं जहाँ के सभी 75 पीआरएस बैठक में उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!