Breaking News

अग्नीपथ के विरोध में हाजीपुर महनार मुख्य सड़क मार्ग जाम, जमकर काटा बबाल


वैशाली: 
सहदेई बुजुर्ग/महनार - केंद्र सरकार की सेना भर्ती की नई योजना अग्नीपथ के विरोध में देसरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत0 हाजीपुर-महनार-मोहिउद्दीन नगर मुख्य मार्ग पर नयागंज बाजार काली मंदिर के निकट सड़क जाम करने के दौरान जमकर बवाल हुआ।पूरा बाजार रणक्षेत्र में तब्दील हो गया।सड़क जाम कर रहे युवाओं के किए गए पथराव में महनार के एसडीपीओ,देसरी थाना के इंस्पेक्टर सहित आधा दर्जन से/////@@ अधिक पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिसकर्मी जख्मी हो गए।घटना की सूचना मिलने पर मौके पर जिला के डीएम,एसपी सहित महनार के एसडीओ एवं अन्य वरीय पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे।

इस संबंध में बताया गया कि देसरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत नयागंज बाजार काली मंदिर के निकट अग्नीपथ योजना का विरोध कर रहे युवाओं ने हाजीपुर-महनार-मोहिउद्दीननगर मुख्य मार्ग को बांस बल्ला लगाकर जाम कर दिया।सड़क पर टायर जलाकर जमकर आगजनी भी की गई।सुबह से सड़क जाम चलता रहा।युवा सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए अपने आक्रोश का इजहार करते रहे।सड़क जाम कर प्रदर्शन कर कर रहे आक्रोशित युवाओं ने भारत माता की जय के नारे के साथ टीओडी पॉलिसी वापस लेने की मांग को लेकर लगातार नारेबाजी करते रहे।आक्रोशित युवाओं का कहना था कि सरकार सेना बहाली के नाम पर उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।उनका कहना था कि पहले जिन लोगों ने मेडिकल और दौड़ क्वालीफाई कर लिया है।उनकी लिखित परीक्षा को रद्द कर दिया गया है।यह लोग तत्काल सरकार से सेना भर्ती की नई योजना को वापस लेने की मांग किया।सड़क जाम के दौरान दोपहर तक स्थिति सामान्य रही।लेकिन जैसे ही मौके पर पुलिस समझा-बुझाकर युवाओं को शांत कराने के लिए पहुंची वैसे ही युवा आक्रोशित हो गए और पुलिस वालों पर ही जमकर पथराव कर दिया।बताया गया कि महनार के एसडीपीओ एसके पंजियार सहित देसरी थाना के इंस्पेक्टर शारदा सुमन देशरी,महनार थाना एवं सहदेई बुजुर्ग और चांदपुरा ओपी की पुलिस मौके पर पहुंची थी।बताया गया कि काफी दूर तक युवाओं ने खदेड़ कर पुलिस वालों के ऊपर पथराव किया। जवाब में पुलिस के लोगों ने भी जान बचाने के इरादे से पथराव का जवाब दिया।इस पथराव में महनार के एसडीपीओ एसके पंजियार,इंस्पेक्टर शारदा सुमन,एसआई नीरज कुमार यादव,एएसआई मोहम्मद रहमतुल्ला सहित आधा दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी जख्मी हो गये।बताया गया कि इंस्पेक्टर को स्थानीय लोगों ने अपने घर में छुपा कर उनका इलाज करवाया।जबकि एसडीपीओ ने कहीं अन्यत्र जाकर अपनी अपना जख्म का इलाज करवाया।अन्य पुलिसकर्मी भी कई दूसरे जगह पर जाकर अपना इलाज करवाया।पूरा इलाका रण क्षेत्र में तब्दील हो गया था।सड़क पर ईटों के टुकड़े बिखरे हुए थे।इस बवाल के दौरान एक महिला पुलिसकर्मी भी घिर गई थी।जिससे स्थानीय लोगों ने किसी प्रकार छुपा कर अपने पास रखा।बाद में मोटरसाइकिल की मदद से वह अन्य पुलिसकर्मियों के पास पहुंच सकी।पथराव के बाद जब पुलिस कर्मी दूर चले गए तो सड़क जाम के दौरान ही मोटरसाइकिल से सड़क पार कर रहे एक व्यक्ति की मोटरसाइकिल सड़क जाम कर रहे लोगों ने घेर लिया और उसको बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर उसमें आग लगा दिया।देखते ही देखते पूरी मोटरसाइकिल जलकर खाक हो गई।बाद में स्थानीय लोगों की मदद से मोटरसाइकिल की आग को बुझाया गया।

बवाल की सूचना मिलने पर जिला के डीएम यशपाल मीणा,एसपी मनीष,महनार के एसडीओ सुमित कुमार,सहदेई बुजुर्ग प्रखंड के बीडीओ डॉक्टर मोहम्मद इस्माइल अंसारी,सीओ रमेश कुमार,महनार के बीडीओ बसंत कुमार सिंह,सीओ रमेश कुमार,देशरी की बीडीओ अर्चना कुमारी,सीओ योगेंद्र प्रसाद,सहदेई बुजुर्ग ओपी अध्यक्ष सुनीता कुमारी,देसरी थाना के प्रभारी थाना अध्यक्ष नीरज कुमार,चांदपुरा ओपी अध्यक्ष चंदन कुमार आदि सहित कई अन्य पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे।इसके अलावा इलाज कराकर महनार के एसडीपीओ भी मौके पर पहुंचे।भारी संख्या में जिला से पुलिस बल के जवान भी मौके पर पहुंचे।जिसके बाद स्थिति पर नियंत्रण पाया गया।बवाल की सूचना मिलने पर स्थानीय जनप्रतिनिधि पूर्व प्रमुख अनिल कुमार राय,पंचायत समिति सदस्य रणवीर पासवान,राजद नेता श्यामनंदन राय,मोहम्मद शाहिद रजा खान,स्थानीय मुखिया जितेंद्र कुमार साह,सामाजिक कार्यकर्ता अभिमन्यु कुमार राय,शम्भू राय आदि सहित अन्य लोग पहुंचे और उन्होंने भी समझा बुझाकर लोगों को शांत कराया और बवाल को शांत कराने में अपनी भूमिका निभाई।जिला के एसपी एवं डीएम ने कई स्थानीय लोगों से घटना के बारे में जानकारी लेने का प्रयास किया।वहीं पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों एवं वीडियो फुटेज की मदद से उपद्रवियों की पहचान करने में जुटी हुई है।वही बताया गया कि घटना को लेकर पुलिस कई लोगों की पहचान की है और इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज करने की कार्यवाही की जा रही है।समाचार प्रेषण तक मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती थी।घटना के बाद से माहौल शांत है।लेकिन तनाव बरकरार है।वहीं स्थानीय लोगों के अनुसार इस बवाल में बाहर से आए कुछ उपद्रवियों का हाथ हो सकता है।लोगों ने कहा कि पुलिसकर्मियों के ऊपर पथराव बाहर से घुस गए कुछ उपद्रवी तत्वों ने किया और उन्होंने ही बवाल किया है।वही पुलिस पूरे मामले की गहराई से जांच कर दोषियों की पहचान करने में जुटी हुई है।कई सोर्स के माध्यम से उपद्रवियों की पहचान की जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!