Breaking News

भूमि विवाद को लेकर रविवार को गोरौल थाना में लगा विशेष जनता दरबार, राजस्व कर्मचारियों के मनमानी से अंचल अधिकारी का वेतन बंद


गोरौल वैशाली जाहिद वारसी की रिपोर्ट 

वैशाली: गोरौल थाना परिसर में रविवार को भूमि विवाद विशेष जनता दरबार लगाया गया जिसमें 13 लोग अपना भूमि विवाद केश लेकर पहुंचे जिसे अंचल अधिकारी ब्रजेश कुमार पाटिल एवं गोरौल थाना अध्यक्ष संजीव कुमार ने मिलकर 7 भूमि विवाद केश का निष्पादन कर लोगों को भरोसा दिलाया कि सभी लोगों का काम ईमानदारी पूर्वक किया जाएगा घबराए नहीं,

 वहीं कुछ लोग राजस्व कर्मचारियों के रवैए से नाराज़ दिखाई दिए लोगों के नाराजगी के बारे में अंचल अधिकारी ब्रजेश कुमार पाटिल से पुछने पर बताया कि मैं खुद 

राजस्व कर्मचारियों के रवैए से आहत हूं । सीओ ब्रजेश कुमार पाटिल ने बताया कि दाखिल खारिज सहित अन्य कार्यों का निष्पादन नहीं होने के कारण मेरा वेतन बंद कर दिया गया है । जबकि इसमें मेरा कोई कुसूर नहीं है । आम लोग राजस्व कर्मचारियों के आगे पीछे कर परेशान हैं । फिर भी समय से उन लोगों का काम नहीं किया जाता । सीओ ने बताया कि अभी भी लगभग दो से ढाई हजार दाखिल खारिज का मामला लंबित पड़ा है । लंबित रहने का मुख्य दोषी राजस्व कर्मचारी हैं । इसको लेकर अपने कार्यालय में एक कर्मचारी को फटकार भी लगाई । ऑनलाइन दाखिल खारिज करने में जबतक कर्मचारी अपने डोंगल से हमारे डोंगल में फारवार्ड नहीं करेगा तबतक हम कुछ नहीं कर सकते । इन्हीं सब कारणों से हमारे यहां दाखिल खारिज का हजारों मामला लंबित पड़ा हुआ है । लापरवाही का आलम यह है कि प्रतिदिन पूरे गोरौल अंचल में बहुत ही कम यानी कि 6 से 8 ही दाखिल खारिज के मामले आते हैं । फिर भी सभी राजस्व कर्मचारी मिलकर 8 मामले में सही से रिपोर्ट नहीं कर पाते हैं और जनता इनके पीछे पीछे परेशान रहती है, और इन सब का खामियाजा हमें भुगतना पड़ रहा है । वरीय अधिकारी हमारे ऊपर कार्रवाई करते हैं जबकि हमरा कहीं से कोई कुसूर नहीं है । सभी राजस्व कर्मचारी को प्रतिदिन लंबित चल रहे दाखिल खारिज के मामले को निपटाने के लिये हमेशा बोला जाता है । फिर भी कोई सुनने को तैयार नहीं । आम लोग भी इस टेक्निकल गड़बड़ी को समझ नही पाते कि दाखिल खारिज के मामले में कर्मचारी एवं अंचल निरीक्षक रिपोर्ट नही देंगे तबतक हम क्या कर सकते हैं । इस तरह के तमाम शिकायतें आम जनता के द्वारा कार्यालय में आते रहते हैं । यहां ऐसी परिस्थिति उतपन्न हो गयी है कि काम करना मुश्किल हो गया है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!