Breaking News

चौथे पुण्यतिथि पर याद किए गए अमर स्वतंत्रता सेनानी पूर्व मंत्री स्वर्गीय ललितेश्वर प्रसाद शाही


वैशाली: 
भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और भारतीय राजनीति के कुशल नेतृत्वकर्ता अमर स्वतंत्रता सेनानी पूर्व केंद्रीयमंत्री स्वर्गीय ललितेश्वर प्रसाद शाही के उनके चौथे पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम दिग्घी कला स्थित राजकिशोर चौधरी, अध्यक्ष, स्वामी सहजानंद समाज सेवा संघ के नेतृत्व में प्रधान कार्यालय पर किया गया।

श्री राजकिशोर चौधरी ने कहा कि जाति, धर्म और क्षेत्रवाद से उपर उठकर एलपी शाही जी ने भारत को एक सूत्र में बांधने में अहम भूमिका निभाते हुए अपना सर्वस्व जीवन समर्पित कर दिया। वहीं श्री चौधरी ने बताया कि ललितेश्वर प्रसाद शाही, एलपी शाही जी के नाम से विख्यात थे। शाही जी का जन्म एक किसान परिवार में वैशाली जिले के साईन गांव के बाबू योगेन्द्र प्रसाद शाही जी के यहां 01 अक्टूबर 1920 को हुआ। शाही जी सन् 1952 में प्रथम विधानसभा के लालगंज विधानसभा के सदस्य बने और 1957 से 1984 तक बिहार सरकार में मंत्री रहे। सन् 1984 में भारत सरकार में मंत्री बनें मुजफ्फरपुर का एस. के. जे .लाॅ. काॅलेज,बी.एम.डी. काॅलेज, एल. ऐन. काॅलेज भगवानपुर के अलावे कई एक शिक्षक संस्थान के निर्माण में शाही जी के योगदान है जिसे भुलाया नहीं जा सकता।

वहीं कार्यक्रम की मुख्य अतिथि रही राजापाकर विधायक प्रतिमा कुमारी दास ने कहा कि हम कांग्रेसी के लिए आदर्श और महान मार्गदर्शक के रूप में रहे हैं। शाही जी अभिभावक के रूप में हमेशा हमारा मार्गदर्शन करते रहें हैं। एक वट वृक्ष की तरह छाया देने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी और कुशल राजनीतिज्ञ रहें हैं। उनसे मिलने वाली प्रेरणा आज भी हमें कर्तव्यों से जोड़े रखा है। बहुत नजदीक और परिवारिक संबंध रहा है और हम हमेशा उन्हें याद करते हैं और हमेशा रखेंगे।

कार्यक्रम में उपस्थित भारती कुमारी, प्रियदर्शिनी दुबे, वरिष्ठ अधिवक्ता गंगोत्री प्रसाद सिंह, मुकेश रंजन, सुबोध प्रसाद सिंह, रंजीत कुमार चौधरी, चंद्र शेखर झा, अनिल कुमार चौधरी, मनीष कुमार तिवारी, पवन कुमार, प्रेम कुमार, राहुल कुमार, श्रीहर्ष भारती, प्रियंका कुमारी आदि मौजूद रहे।

वहीं कार्यक्रम का आयोजन की जिम्मेदारी विपीन कुमार सिंह ने उठाया और सभी आगंतुक का धन्यवाद देते हुए शाही जी को पुनः भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित किया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!