Breaking News

29 जून को जिलाधिकारी करेंगे राजस्व कर्मचारियों के साथ समीक्षा


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

हाजीपुर :--जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा के द्वारा कल दिनांक 21.06.2022 को अपने कार्यालय कक्ष में वैशाली जिला के सभी अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर जमाबंदियों का डिजीटाईजेशन , दाखिल - खारीज , भारतमाला परियोजना के लिए भू - अर्जन , प्रधानमंत्री आवास योजना एवं सामुदायिक शौचालय निर्माण की प्रगति की समीक्षा की गयी । समीक्षा के क्रम में पाया गया कि दाखिल - खारीज के अधिकांश आवेदन राजस्व कर्मचारियों के पास लम्बित है। इस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और निदेश दिया गया कि जिले के सभी राजस्व कर्मचारियों की बैठक 29 जून को समाहरणालय सभागार में करायी जाय जिसमें एक - एक कर्मचारी के कार्यों की पड़ताल की जाएगी और ओवदन समय सीमा के अंदर निष्पादित नहीं करने के कारणों को जाना जायेगा । 

जिलाधिकारी ने सख्त निदेश दिया कि सभी अंचलाधिकारी यह ध्यान रखेंगे के इस दौरान आवेदनों का निरस्तीकरण बिना याथोचित कारण के नहीं किया जाय । समीक्षा में पाया गया कि दाखिल खारीज के 23000 आवेदन अभी भी लम्बित है । जिलाधिकारी ने कहा कि अपर समाहर्ता के द्वारा प्रतिदिन संध्या में समीक्षा की जा रही है फिरभी अपेक्षित प्रगति नहीं दिख रही है । यह नहीं चलेगा । जमाबंदियों के डिजीटाईजेशन के लिए जिला स्तर पर 100 से अधिक डाटा इन्ट्री ऑपरेटर लगाया गया है और इसके लिए एक माह का समय दिया गया था परन्तु इसमें भी प्रगति धीमी पायी गयी । इस पर जिलाधिकारी के द्वारा भौतिक रूप से जमाबंदियों के सत्यापन कार्य में तेजी लाने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अंचलाधिकारी इसके लिए योजना बना लें और इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता दें । समीक्षा में पाया गया कि डिजीटाईजेशन का कार्य महुआ अनुमंडल में ठीक - ठाक है परन्तु हाजीपुर और महनार अनुमंडल के अंचलों में प्रगति संतोषजनक नहीं है इस पर सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं डीसीएलआर को नियमित समीक्षा करने और अंचल कार्यालयों में जाकर इसे देखने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी के द्वारा प्रखंडों के वरीय पदाधिकारियों को भी निदेश दिया गया कि जब भी क्षेत्र में जाये तो देखें कि कर्मचारी एजेन्ट के माध्यम से तो कार्य नहीं कर रहे हैं । अगर ऐसा है तो एजेन्ट को पकड़ा जाएगा और जेल भेजा जाएगा। इस कार्य पर सरकार की प्राथमिकता है । इसमें मनमर्जी नहीं चलेगी।

 संभावित बाढ़ से प्रभावित होने वाले परिवारों की सम्पूर्ति पोर्टल पर अपलोड होने वाली सूची की समीक्षा में पाया गया कि राघोपुर अंचल को छोड़कर अन्य अंचलों में यह कार्य लगभग पूर्ण है। जिलाधिकारी के द्वारा राघोपुर में यह कार्य करा लेने के लिए 10 दिनों का समय दिया गया और प्रखंड विकास पदाधिकारी राघोपुर को इस कार्य में सहयोग करने का निदेश दिया गया । भारतमाला परियोजना के लिए वैशाली जिला के पातेपुर , जन्दाहा , महुआ , और राजापाकर के कुल 43 मौजा में भू - अर्जन किया जाना है जिसमें अधिकांश रैयतों का भुगतान कर दिया गया है । सबसे अधिक पातेपुर में लगभग 600 लोगों एवं जन्दाहा में 150 लोगों का भुगतान अभी भी बाकी है । जिलाधिकारी के द्वारा अगले दस दिनों के अन्दर सभी का भुगतान कर देने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी ने कहा कि जिनका टाईटल स्पष्ट है उनको एलपीसी निर्गत करें । जिलाधिकारी ने कहा कि जिनका भी भुगतान बकाया है उनकी सूची सार्वजनिक स्थानों पर लगा दें एवं वहाँ माईकिंग करादें । 

अगर कोई खेसरा विवाद वाला है तो लिखित में दें।प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि वैसे सभी लाभूकों को जिनके प्रथम किश्त की राशि दी गयी है उन्हें दूसरी किश्त की राशि हर हाल में जून माह के अंत तक मिल जानी चाहिए और यह ध्यान रखा जाय कि 25 जुलाई तक सभी आवासों का छत ढलाई हो जाय ताकि तीसरी किश्त भी ससमय दे दिया जाय । अगर कोई व्यक्ति किश्त की राशि लेने के बाद भी निर्माण कार्य नहीं करा रहा है तो उस पर सर्टिफिकेट केश कर दिया जाय । वैशाली जिला में वित्तीय वर्ष 2021-22 में कुल 44956 आवासों का लक्ष्य निर्धारित है जिसके विरूद्ध 1 जून 2022 तक 34935 लोगों को प्रथम किश्त तथा 1 जून के बाद 6309 लोगों को द्वितीय किश्त की राशि निर्गत की गयी है । जिलाधिकारी ने कहा कि आवास पर्यवेक्षक लगातार भ्रमण करें और जिनका भी आवास प्लींथ लेवल तक पहुँच गया है उसका जीयोटैगिन करें और उसका दूसरा किश्त निर्गत करायें । अगर यह कार्य किसी कारण से नहीं किया जा रहा हैं तो रेण्डेमली इसकी जाँच की जाय और गड़बड़ी या जानबूझ कर बिलंब पर संबंधित आवास सहायक पर प्राथमिकी दर्ज करायी जाय ।

 सामुदायिक शौचालय निर्माण की प्रगति की समीक्षा में पाया गया कि कुल 399 की स्वीकृति के विरूद्ध 314 का कार्य पूर्ण करा कर हैण्ड ओवर कर दिया गया है । 53 का निर्माण कार्य प्रगति पर है जबकि 32 में अभी कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया हैं जिलाधिकारी ने कहा कि जहाँ हैण्डओवर किया गया है वहाँ लोग इसका उपयोग करें तथा सभी 314 की सूची उपलब्ध करायें ताकि उसे जिला के वेवसाईट पर डाला जा सकें । समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी के साथ अपर समाहर्ता श्री जितेन्द्र प्रसाद साह , उपविकास आयुक्त श्री चित्रगुप्त कुमार , अनुमंडल पदाधिकारी हाजीपुर श्री अरूण कुमार , डीसीएलआर हाजीपुर श्री स्वप्निल सहित प्रखंडों के वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे तथा महनार एवं महुआ अनुमंडल के एसडीओ और डीसीएलआर वीडिया कॉफ्रेंसिंग से जुड़े हुए थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!