Breaking News

धसने में चार लोग दबे हाजीपुर रेफर


वैशाली बिदुपुर संवाददाता अभिनय कुमार की रीपोर्ट

बिदुपुर थाने के दाउदनगर घाट किनारे लाल मिट्टी निकालने गए दस से पन्द्रह महिला,पुरुष लोगो मे चार लोग धसने में दब गए।घटना शुक्रवार सुबह की है।चार लोग के धसने में दब जाने के बाद गांव में जबरदस्त कोहराम और अफरातफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई।लोग घाट किनारे भागकर पहुचे।पहले से घाट पर मौजूद लोगों द्वारा किसी प्रकार चारो को मिट्टी हटाकर बाहर निकाला गया।स्थानीय बिदुपुर अस्पताल से प्रारम्भिक उपचार पश्चात सभी हाजीपुर रेफर किये गए जहा सबका इलाज चल रहा है।सूचना पर मौके पर पहुची पुलिस ने मामले की जानकारी ली।

मिली जानकारी के मुताबिक के मुताबिक क्षेत्र के कई नदी घाट किनारे जिसमे खिलवत,दाउदनगर, मधुरापुर सतियारा घाट आदि जगहों से ग्रामीण द्वारा लाल मिट्टी खुदाई कर लाई जाती है।जान जोखिम में डालकर मिट्टी खुदाई के लिये लोग बीस फीट से अधिक डीप गढ्ढे में चले जाते है और ऊपर से मिट्टी का बड़ा भाग लटका रहता है जो बड़े चट्टान के रूप में गिरने के कारण हादसा होता।शुक्रवार को माइल, दाउदनगर के करीब दस पन्द्रह लोग बड़ी खाई के नीचे बैठकर लाल मिट्टी निकाल रहे थे जब ऊपर से धसना गिरा जिसके नीचे सात आठ लोग आ गए।बाकि तो निकल गए लेकिन चार लोग बुरी तरह से मिट्टी के नीचे दब गए।दबने बालो में दाउदनगर के छोटे लाल पंडित,पिता स्व रामजी पंडित,सीमा देवी,पति प्रमोद पासवान,के साथ माइल के दो लोग है।

बताते चले कि बीते वर्ष लाल मिट्टी निकालने के क्रम में सतियारा घाट मधुरापुर,और दाउदनगर घाट पर धंसने में दबने के कारण दो महिला एक पन्द्रह साल के बालक की मौत हुई है वावजूद लोग हादसे को निमंत्रण देने से बाज नही आ रहे है।

स्थानीय लोग हादसे के लिये सफेद बालू से जुड़े धंधेवाजो को जिम्मेवार ठहरा रहे है।जदयू नेता अनिल चौरसिया ने बताया कि सफेद बालू आठ से दस फीट निकाले जाने के बाद लाल मिट्टी निकलती है जिसे निकालकर लाने गरीब गुरबे परिवार के लोग जाते है और हादसे के शिकार होते है।

थाना अध्यक्ष धनन्जय पांडेय ने बताया कि मामले में कोई आवेदन आदि नही दिए गए है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!