Breaking News

पातेपुर प्रखंड उप प्रमुख ने किया लगभग एक दर्जन आंगनवाड़ी केंद्रों का औचक निरीक्षण


वैशाली:
पातेपुर प्रखंड उप प्रमुख विमला देवी ने प्रखंड क्षेत्र के तीन पंचायतो के लगभग एक दर्जन आंगनवाड़ी केंद्रों का औचक निरीक्षण किया।औचक निरीक्षण के दौरान लगभग आधा दर्जन से अधिक केंद्र बंद पाए गये। वही कई केंद्रों पर बच्चों की उपस्थिति नगण्य देख कर उप प्रमुख ने उपस्थित सेविका एवं सहायिका को जमकर फटकार लगाई। सोमवार की सुबह प्रखंड क्षेत्र के वस्ती खोआजपुर पंचायत के आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 168 पर सुबह 8 बजकर 13 मिनट पर उप प्रमुख पहुंची जहां केंद्र पूरी तरह बंद पाया। तत्पश्चात 8 बजकर 31 मिनट पर केंद्र संख्या 382 पर गई जहां केंद्र पर सेविका सहायिका तो मौजूद थी परंतु केंद्र में मात्र तीन बच्चे ही उपस्थित थे। केंद्र संख्या 173 पर 8 बजकर 43 मिनट पर पहुंची तो देखा कि सेविका सहायिका तो थी महज बच्चे एक भी उपस्थित नही थे। 8 बजकर 55 मिनट पर केंद्र संख्या 172 पर पहुंची उप प्रमुख विमला देवी ने केंद्र पर मात्र छह बच्चे की मौजूदगी देख मौके पर मौजूद सेविका कंचन सिन्हा एवं सहायिका माधो देवी को कड़ी फटकार लगाई। 9 बजकर 4 मिनट पर आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 179 की स्थिति बद्तर देख कर उप प्रमुख ने तत्काल केंद्र की जांच कराने की बात कही। उक्त केंद्र के भवन में पशु चारा रखा हुआ था एवं केंद्र नही संचालित हो रहे थे। केंद्र संख्या 384 पर पहुंची उप प्रमुख ने 17 बच्चे की उपस्थिति के साथ स्वास्थ्य विभाग द्वारा बच्चों का स्वास्थ्य जांच शिविर देख सेविका एवं सहायिका को केंद्र को और बेहतर तरीके से चलाने का निर्देश दिया।केंद्र संख्या 322 पर सेविका ममता कुमारी एवं सहायिका मिनी कुमारी की मौजूदगी देखी परंतु एक भी बच्चा उपस्थित नही पाकर यहां भी उप प्रमुख ने दोनो को फटकार लगाते हुए वरीय अधिकारियों से शिकायत किये जाने की बात कही। उप प्रमुख विमला देवी ने केंद्र संख्या 161 पर पहुंची तो देखा कि केंद्र पर 21 बच्चे मौजूद थे वही बच्चों को दी जाने वाली पोषाहार की जांच की। मेनू के अनुसार बच्चे को पोषाहार नही दिए जाने पर उप प्रमुख ने सेविका शोभा कुमारी को मेनू के अनुसार पोषाहार देने का निर्देश दिया। केंद्रों का निरीक्षण करने के पश्चात उप प्रमुख विमला देवी ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र में आंगनवाड़ी केंद्रों की स्थिति काफी बद्तर पाई गई है। उन्होंने बताया कि औचक निरीक्षण के दौरान वैसे सभी केंद्रों पर जहां अनियमितता पाई गई है उसके विरुद्ध जिले के वरीय पदाधिकारियो को रिपोर्ट भेजी जाएगी वही बंद पड़े केंद्रों के सेविका सहायिका के विरुद्ध कार्रवाई के लिए अनुशंसा की जाएगी। उन्होंने ने बतया की जांच के क्रम में पाया गया की सेविका सहायिका के द्वारा मेनु के हिसाब से बच्चों को भोजन नहीं दिया जाता है। निरीक्षण के दौरान पंचायत समिति सदस्य गणेश राय, मो0 मोजाहिर आदि मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!