Breaking News

भूमि को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर प्रशासन ने अभियान चलाया


वैशाली: 
सहदेई बुजुर्ग - रविवार को एक बार फिर प्रखंड के चकफैज पंचायत के चकेयाज स्थित वार्ड संख्या संख्या 13,14 में राजकीय कृषि बीज गुणन प्रक्षेत्र का छह हेक्टेयर में फैले हुये भूमि को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर प्रशासन ने अभियान चलाया।इस दौरान अतिक्रमण हटाने के अभियान के दौरान अवैध रूप से निर्मित झोपड़ी व कच्चा मकान को हटाया गया।अतिक्रमण हटाने को लेकर पुलिस लाईन से विशेष बल बुलाया गया था।अंचलाधिकारी रमेश कुमार,ओपीध्यक्ष सुनीता कुमारी देसरी थाना एवं सहदेई बुजुर्ग ओपी की पुलिस के साथ चकेयाज स्थित कृषि विभाग के राजकीय बीज गुणन प्रक्षेत्र को अतिक्रमण मुक्त कराने पहुंचे।आस-पास के सैकड़ों लोग कार्रवाई को देखने के लिए भीड़ जुट गई।पदाधिकारियों ने कृषि विभाग की भूमि पर अवैध रुप से झोपड़ी और कच्चा मकान बनाने बालों को तुरंत अतिक्रमण हटाने को कहा।इसके कुछ देर बाद प्रशासन ने जेसीबी से अतिक्रमण हटाने का कार्य शुरु कर दिया।इस दौरान प्रशासन ने 96 झोपड़ी और कच्चा मकान को हटाया।

उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व 1 जून को भी प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने की करवाई की थी।बताया गया कि कृषि विभाग के आग्रह पर 96 लोगों को नोटिस जारी कर अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया गया था।नोटिस मिलने पर भी अतिक्रमण नहीं हटाने के बाद 1 जून को प्रशासन ने दल बल के साथ मौके पर पहुंच कर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की थी।उस दौरान स्थानीय लोगों ने प्रशासन से और मोहलत देने की मांग की थी।जिसके बाद प्रशासन ने वरीय अधिकारियों एवं डीएम के निर्देश पर इन सभी को पांच दिन की मोहलत देते हुए कहा था कि स्वतः अपना अतिक्रमण हटा लें।लेकिन लोगों ने अपनी मर्जी से अतिक्रमण नहीं हटाया।जिसके बाद रविवार को पुनः प्रशासन दल बल के साथ मौके पर पहुंच कृषि विभाग की अतिक्रमित भूमि को खाली कराने का काम किया।इस दौरान वैसे लोगों को नहीं हटाया गया जो भूमिहीन हैं और यहां रह रहे हैं।

सहदेई बुजुर्ग के अंचलाधिकारी रमेश कुमार ने कहा कि पूर्व में जिन लोगों का अतिक्रमण हटाया गया था।उन्हीं लोगों का अतिक्रमण पुनः रविवार को हटाया गया है।उन्होंने कहा कि जो भूमिहीन परिवार कृषि विभाग की इस भूमि पर रह रहा है उसके लिए भूमि की व्यवस्था की जा रही है और उन्हें जल्द ही अन्यत्र बसाने क्या कार्य किया जाएगा।कहा कि इस दिशा में बहुत तेजी से कार्य किया जा रहा है।

राजकीय कृषि बीज गुणन प्रक्षेत्र में बसे हुए है सैकडों गंगा कटाव पीड़ित।

वर्ष 2001 से बहलोलपुर,हबराहा,रसलपुर,पलवैया समेत कई गांव के दो हजार की आवादी इस राजकीय कृषि बीज गुणन प्रक्षेत्र के भूमि में बसी हुई है।जिसमें नया 350 और पुराना 730 मतदाता है।इसके अलावा इन लोगों के पास राशनकार्ड,आधार कार्ड एवं मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभुक भी है।लोगों का कहना है कि गंगा कटाव के कारण घर से बेघर हो गए और उन्हें खानाबदोश की तहत जीवन जीना पड़ रहा है। स्थायी रूप से नहीं बसने के कारण उन्हें कभी प्रशासन तो कभी कृषि विभाग का अल्टीमेटम सुनना पड़ रहा है। विस्थापित परिवारों ने स्थायी रुप से बसाने एवं वासकीत पर्चा देने की मांग की है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!