Breaking News

मौतों को गंभीरता से नहीं ले रहा वन विभाग

 संवाददाता-  ब्यूरो चीफ नितेश सिंह यादव की रिपोर्ट

मौतों को गंभीरता से नहीं ले रहा वन विभाग...

चंदौली - चकिया तहसील अंतर्गत आने वाला नदी चंद्रप्रभा मौत का डेरा बन गया है बताते चलें कि नौगढ़ और चकिया के पहाड़ों से उतरती चंद्रप्रभा नदी ने अपने वेग से पत्थरों को काटकर खोह (दह) बना दिया है। नदी में यह खोह (दह) नौगढ़ से लेकर बबुरी तक मिलते हैं। इसमें सिकंदरपुर-विजयपुरवा गांव में नदी के दोहरे घुमाव के चलते दह अधिक हैं। लिहाजा, दो दशकों से अधिक समय से यहां बांधों से उतर रहे मगरमच्छों ने अपनी कालोनी बना ली है। ग्रामीणों की मानें तो इनका कुनबा 25 से अधिक मगरमच्छों का हो चला है, जो अपनी भूख मिटाने के लिए नीलगाय, गाय-भैंस, बकरी, बत्तख के अलावा ग्रामीणों का शिकार करते हैं।



 वन विभाग और प्रशासन ग्रामीणों की मौतों को गंभीरता से नहीं ले रहा। ग्रामीणों के जीवन को बचाने के बजाए जंगली जानवरों के हमलों से मारे जा रहे निर्दोष ग्रामीणों की मौत की संख्या सरकारी फाइल में दर्ज करने भर की कार्रवाई की जा रही है। आम लोगों की मगरमच्छ और जंगली जानवरों से सुरक्षा का कोई प्रयास इनके द्वारा नहीं किया जा रहा।




कानूनी सहायता के लिए इस नंबर पर संपर्क करें 83 5390 5304 संवाददाता ब्यूरो चीफ नितेश सिंह यादव की रिपोर्ट

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!