Breaking News

लोहार समाज आरक्षण बचाव राज्य स्तरीय सम्मेलन की तैयारीयों को लेकर हुआ विचार विमर्श


वैशाली: सहदेई
बुजुर्ग - सहदेई बुजुर्ग प्रखंड के बाजितपुर कस्तूरी पंचायत के रसलपुर जिलानी में लोहार समाज की एक बैठक में 26 जून को हाजीपुर के गांधी आश्रम में आयोजित होने वाली 

आरक्षण बचाव राज्य स्तरीय सम्मेलन की तैयारीयों को लेकर विचार विमर्श किया गया।

बैठक में उपस्थित मुख्य अतिथि डा0 सुनील कुमार शर्मा ने कहा कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय नई दिल्ली ने लोहार जाति को अनुसूचित जनजाति के अधिकार से वंचित कर दिया है।उन्होंने कहा कि जब देश आजाद हुआ और संविधान बनाया गया तो उस समय भारत सरकार के ने एक आदेश सभी राज्यों के लिए जारी किया गया था कि अपने-अपने राज्यों में जो भी कमजोर,सबसे पिछडी अशिक्षित एवं दुर्लभ जातियों को अनुसूचित जनजाति के श्रेणी में शामिल करने को ले रिपोर्ट मांगी गई थी।उसी समय पत्र के जवाब में बिहार सरकार ने लोहार जाति एवं अन्य जातियों का नाम अनुसूचित जनजाति के श्रेणी में जोड़ने का अनुशंसा कर भारत सरकार को भेजा गया था।उसके बाद लोहार जाति को लोहार,लोहारा,लोहरा के पेंच में फंसाकर उलझा दिया।जबकि पूरे भारत वर्ष में लोहारा नाम कि कोई जाति नहीं है।लोहार को ही अंग्रेजी में लोहारा लिखा जाता है।संघ के जिला महासचिव डा0 अरुण कुमार शर्मा ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने संविधान को नजर अंदाज करके बिहार के चालीस लाख लोहार जाति के लोगों का जीवन बर्बाद कर दिया।जबकि लोकसभा में सांसद महोदय ने कई बार सदन में सवाल उठाए।लेकिन अभी तक लोहार जाति को न्याय नहीं मिला।जिसको लेकर 26 जून को हाजीपुर के गांधी आश्रम में संवैधानिक आरक्षण बचाव राज्य स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया गया है।उक्त सम्मेलन में ज्यादा से ज्यादा संख्या में उपस्थित होकर इसको सफल बनाने की अपील किया।इस बैठक की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा एवं संचालन युवा प्रखंड अध्यक्ष धर्म नाथ शर्मा ने किया।बैठक में अजय शर्मा,ओमप्रकाश शर्मा,शंकर शर्मा,सुबोध शर्मा,कमलेश शर्मा,सुनील शर्मा,मुनेश्वर शर्मा,चन्द्रभूषण शर्मा,राजगीर शर्मा,दीपक शर्मा,राजेश शर्मा,मनोज शर्मा आदि उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!