Breaking News

दिवंगत नरेंद्र सिंह का ब्रह्मभोज 18 को...


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट

( शांतिभोज के लिए महाप्रसाद बनाने का काम शुरू )

( 1500 खानसामा बना रहे हैं 50 हजार से अधिक लोगों के लिए महाप्रसाद )

( विशाल पंडाल में एक साथ हजारों स्वजन करेंगे भोजन ,

2000 से अधिक कर्मी परोसेंगे खाना )

( बिहार , राजस्थान , समेत कई राज्यों के स्वजन होंगे शांतिभोज में शामिल )

( अतिथि देवो भवः की तर्ज पर होगा आगन्तुकों का सम्मान : मंत्री )

जमुई: पितृयज्ञ दिवंगत पितरों के प्रति श्रद्धा - सुमन एवं कृतज्ञता ज्ञापन से भरा विशिष्ट पर्व है ।श्राद्ध का अर्थ श्रद्धापूर्ण व्यवहार एवं तर्पण का अर्थ तृप्त करना है । इस तरह श्राद्ध - तर्पण का अभिप्राय दिवंगत अथवा जीवित पितरों को तृप्त करने की श्रद्धा पूर्वक प्रक्रिया है । पितृयज्ञ से सम्बन्धित संपुर्न कर्म कांड इसी प्रयोजन से किया जाता है । साथ ही इसमें यह भाव - प्रेरणा भी निहित रहती है कि हम पितरों , महापुरुषों एवं महान पूर्वजों के आदर्शों , निर्देशों एवं श्रेष्ठ मार्गों का अनुसरण कर वैसे ही महान बनने का प्रयास करें , जैसा वे रहे । कर्म कांड में पितरों के नाम पर ब्रह्मभोज का उल्लेख है । इसके पुण्य फल से जहां पितर संतुष्ट होते हैं वहीं उन्हें सद्गति भी प्राप्त होती है । धर्मग्रंथों के मुताबिक जो व्यक्ति श्राद्ध करता है , उसे पितर सीधे आयु , बल , पुत्र , यश , सुख , वैभव और धन - धान्य का आशीर्वाद देते हैं ।

    इसी संदर्भ में बिहार सरकार के कैबिनेट मंत्री एवं दिवंगत नरेंद्र सिंह के सुपुत्र सुमित कुमार सिंह ने आज रविवार को खास मुलाकात में बताया कि धर्मग्रंथों में उल्लेखित सार तत्वों को आत्मसात कर पूज्य पिताजी की आत्मा की शांति के लिए 18 जुलाई यानी सोमवार को पकरी गांव स्थित आवासीय परिसर में भव्य ब्रह्मभोज सह शांतिभोज का आयोजन किया जा रहा है । इस विशाल भोज में बिहार , राजस्थान , दिल्ली , हरियाणा , पंजाब , उत्तरप्रदेश , झारखंड , पश्चिम बंगाल , महाराष्ट्र , कर्नाटक , गुजरात आदि विभिन्न राज्यों से चिर - परिचित अतिथि पकरी गांव आएंगे और यहां महाप्रसाद ग्रहण कर पूज्य पिताजी आदरणीय नरेंद्र सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे । श्री सिंह ने अतिथि देवो भवः की तर्ज पर आगंतुकों का सम्मान किए जाने का संकल्प व्यक्त करते हुए कहा कि स्वजनों के स्वागत के लिए प्रशिक्षित युवाओं को लगाया जा रहा है । उन्होंने शांतिभोज में 50 हजार से अधिक लोगों के शामिल होने की जानकारी देते हुए कहा कि इसके लिए 1500 से अधिक खानसामा महाप्रसाद बनाने में जुटे हुए हैं । श्री सिंह ने तमाम अतिथियों को सम्मान के साथ भोजन परोसे जाने के लिए 2000 से अधिक कर्मियों को तैनात किए जाने की जानकारी देते हुए कहा कि इनके बैठने के लिए विशाल सुसज्जित पंडाल का निर्माण कराया गया है । 

वर्षा से बचाव के लिए पंडाल को वाटरप्रूफ बनाया गया है , वहीं गर्मी से निजात पाने के लिए इसमें बड़े - बड़े कूलर और पंखे भी लगाए गए हैं । उन्होंने खास कर जमुई जिला के निवासितों से अनुरोध करते हुए कहा कि आप सभी जन निर्धारित तिथि को नामित स्थान पर पहुंचें और शांतिभोज में शामिल होकर पूज्य पिताजी की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से विनती करें । इधर जेपी सेनानी राजेश कुमार सिंह , रंजन सिंह , भूषण सिंह , सिंकू सिंह आदि शुभचिंतक एवं रिश्तेदार श्राद्ध कर्म के साथ शांतिभोज को सफल बनाने में जुटे हुए हैं । सभी स्वजन महाप्रसाद के निर्माण पर खास निगाह रख रहे हैं ताकि किसी भी स्तर पर कमी नहीं रहे । साथ ही बिहार सरकार के कैबिनेट मंत्री सुमित कुमार सिंह के पकरी स्थित आवास पर जिला प्रशासन ने सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया है तथा महिला और पुरूष पुलिस दोनों की तैनाती की गई है । प्रतिनियुक्त जवान हर आने - जाने वाले लोगों पर निगाह रख रहे हैं । पुलिस बल भीड़ को नियंत्रित करने के लिए भी सजग और सचेत दिखे । ज्ञात हो कि ब्रह्मभोज की तैयारी युद्धस्तर पर जारी है ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!