Breaking News

बकरीद का त्योहार सोनो में हर्षोल्लास पूर्वक संपन्न


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट

इस्लाम धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार ईद उल अजहा सोनो में शांतिपूर्ण व हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया । इस दौरान लोगों ने नये नये वस्त्र धारण कर इत्र लगाकर माथे पर पट्टी बांध सबसे पहले ईदगाहों में जाकर नमाज अदा की । तत्पश्चात मस्जिद में तैनात मौलाना ने बकरीद से संबंधित जानकारी दी । इसकेे पश्चात लोगों ने अपने अपने घरों में यथा शक्ति अल्लाह के नाम बकरे की बलि यानि कुर्बानी दी । कुर्बानी से संबंधित प्राप्त जानकारी के अनुसार 80 वर्षिय हजरत इब्राहीम को अल्लाह ने उनके स्वप्न में आकर कहा कि आप कुर्बानी में हमे‌ अपना सबसे प्यारा चीज कुर्बानी दो । जिस पर अल्लाह का हुक्म को मानकर हजरत इब्राहीम ने अपने सबसे प्यारा व लाडले बेटे को कुर्बानी देने का फैसला लिया , ओर हजरत इब्राहीम ने अपने ऑंखो पर पट्टी बांध कर प्यारे बेटे इस्माइल को कुर्बानी देने के लिए उसके गर्दन पर छुरा चला दिया । लेकिन ‌उसी क्षण इस्माइल की जगह एक बकरा आ गया ।

 इसके बाद जब हज़रत इब्राहीम ने अपनी ऑंखो से पट्टी हंटाई तो उनके बेटे इस्माइल सही सलामत पास ही खड़े दिखाई दिये । बताया जाता है कि यह घटना महज एक इम्तिहान था , और हजरत इब्राहीम अल्लाह के हुक्म को अपनी बफादारी दिखाते हुए अपने ‌लाडले बेटे इस्माइल की कुर्बानी देने को तैयार हो‌ गए । तभी से बकरों की कुर्बानी देने की परंपरा शुरू हुई । इधर कुर्बानी दी गई बकरे की मांस को तीन हिस्सों में बांटा गया है । प्रखंड के पैरा मटिहाना , खपरिया , ढोंढरी , तिलवरिया , गोरबा मटिहाना , कोड़ाडीह , ठाढ़ी , रक्तरोहनियां , बुढ़िया लापर , कुसैया , चांदरा , करहरी , मोहनाडीह , बंदरमारा , भलसुंभीया , चरैया , बाबुडीह , हथिया पत्थल अगाहरा चपरी आदि गांवों मे ईद उल अजहा का पर्व हर्षोल्लास पूर्वक संपन्न हो गया । ज्ञात हो कि इस पर्व को शांति और सौहार्द्र पुर्ण वातावरण मनाने के लिए सोनो एवं चरका पत्थर थाना की पुलिस द्वारा सुरक्षा का कड़ा प्रबंध किया गया तथा पुलिस पैट्रोलिंग वाहन दिन भर गस्ती करते रहे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!