Breaking News

सम्भावित बाढ़ अथवा सुखार की स्थिति से निपटने के लिए की गयी तैयारियों की जिलाधिकारी ने की समीक्षा


हाजीपुर:-वैशाली
जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा के द्वारा अपने कार्यालय कक्ष में जिला स्तरीय पदाधिकारियों एवं कार्यपालक अभियंताओं के साथ संभावित बाढ़ अथवा सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिए की जा रही तैयारियों की समीक्षा की गयी।इस समीक्षा में अनुमंडल पदाधिकारी , प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हुए थे।जिलाधिकारी ने सर्वप्रथम जिला कृषि पदाधिकारी से धान का बीचडा एवं रोपनी की स्थिति की जानाकरी प्राप्त की।जिला कृषि पदाधिकारी ने बताया कि जिला में वर्षापात कम रहा है फिर भी बीचडा का 85 प्रतिशत लक्ष्य पुरा हो गया है परन्तु रोपणी अभी बहुत कम की गयी है।लगभग 06 प्रतिशत रापणी ही हो पायी है। उन्होंने कहा कि यहाँ धान की रोपणी देर तक होती है। जिलाधिकारी के द्वारा सुखाड़ की स्थिति बनने पर वैकल्पिक सफलों की तैयारी रखने का निदेश दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि सुखाड़ में भी कृषि इनपूट अनुदान देय है।इसके लिए सभी अंचलाधिकारियों के माध्यम से प्रतिवेदन प्राप्त कर लिया जाय।जिला पशुपालन पदाधिकारी से पूछा गया कि पशुओं के लिए पानी की आपूर्ति कैसे सुनिश्चित हो इसके बारे में बतायें।जिला पशुपालन पदाधिकारी ने बताया कि इसके लिए कैटल ट्रॉप की आवश्यकता होगी। इस पर लघु सिंचाई के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि उनके विभाग के द्वारा 23 जगहो पर कैटल ट्रॉप बनाया गया है वही पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि उनके विभाग से भी दो जगह बनाया हुआ। जिलाधिकारी के द्वारा सभी 25 जगहों की सूची आपदा शाखा को उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में कितने जगह पशुहाट लगते हैं इस पर जिला पशुपालन पदाधिकारी के द्वारा तीन पशुहाटों की जानकारी दी गयी।जिलाधिकारी ने जिला के सभी नगर परिषद और पीएचइडी के पास पानी के टैंकर की उपलब्धता की जानकारी ली गयी और निदेश दिया गया कि भाड़ वाले पानी टैंकर की भी सूची बनालें ताकि जरूरत पड़ने पर उसका भी उपयोग किया जा सके। कार्यपालक अभियंता सिंचाई के द्वारा बताया गया कि तिरहुत नहर से 19 हजार हेक्टेयर में कृषि पटवन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसके लिए समय पर पानी उपलब्ध हो जाएगा। कार्यपालक अभियंता विद्युत के द्वारा बताया गया कि जिला में कुल 48 फीडर कृषि कार्य के लिए है जिसमें 16 हाजीपुर तथा 30 महुआ अनुमंडल में है।अभी कृषिकार्य के लिए रोटेशन पर बिजली आपूर्ति की जा रही है।जिलाधिकारी ने कहा कि जरूरत पड़ने पर किसानों को ज्यादे पावर देना होगा।इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।संभावित बाढ़ को लेकर कराये गये निरोधात्मक कार्य का सत्यापन किसी दूसरे विभाग के अभियंता से करा लेने का निदेश जिलाधिकारी के द्वारा दिया गया।लालगंज के जाफराबाद और बलहा बसन्ता में कार्य पूर्ण होने की जानकारी मांगी गयी।कार्यपालक अभियंता ने बताया कि दोनों जगह निरोधात्मक कार्य पूर्ण करा लिया गया है।अभी बलहा बसन्ता में गाद कटाई का कार्य चल रहा है।विडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से इस बैठक से जुड़े सभी अंचलाधिकारियों को जिलाधिकारी ने कहा कि अगर कोई समस्या है तो बतादें क्षेत्र भ्रमण के दौरान कहीं कोई कमी पायी गयी है तो उसे भी बतायें।इस पर बिदुपुर के अंचलाधिकारी ने कहा कि गंगा नदी के द्वारा जमींदारी बाँध के पास कटाव तेज गति से चल रहा है । जिस पर कार्यपालक अभियंता बाढ़ निस्सरण को निदेश दिया गया कि इसे तुरंत देखें और जरूरी कार्रवाई करें। अंचलाधिकारी हाजीपुर ने बताया कि कई जगहों पर जाल लगाये जाने के कारण पानी का बहाव वहाँ पर जलकुम्भी जमा होने के कारण अवरूद्ध हो रहा है इसपर कार्यपालक अभियंता को अचलाधिकारी के साथ ही टीम बनाकर देख लेने तथा इसके विरूद्ध नियमानुसार कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया। समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी के साथ अपर समाहर्ता श्री जितेन्द्र प्रसाद साह , जिला आपूर्ति पदाधिकारी श्री अरूण कुमार , अनुमंडल पदाधिकारी महुआ श्री सुमीत कुमार , प्रभारी पदाधिकारी आपदा श्री स्वप्निल , जिला कृषि पदाधिकारी , जिला पशुपालन पदाधिकारी सहित सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!