Breaking News

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत अधिक से अधिक श्रमिकों को निबंधन हेतु बैठक आयोजित


सीतामढ़ी जिला ब्यूरो चीफ दीपक पटेल की रिपोर्ट 

 जिसके संबंध में श्रम अधीक्षक के द्वारा बताया गया कि 18 से 40 वर्ष की आयु के सभी असंगठित कामगार अपना आधार कार्ड, बैंक खाता, तथा प्रथम किस्त की नगद राशि लेकर अपने नजदीकी वसुधा केंद्र (कॉमन सर्विस सेंटर) पर जाकर बनवा सकते हैं। या यदि उन्हें पेंशन कार्ड बनवाने में किसी भी तरह की समस्या आती है तो वह किसी भी कार्य दिवस को संयुक्त श्रम भवन सीतामढ़ी, आईटीआई, परिसर डुमरा में आकर अपना पेंशन कार्ड बनवा सकते हैं ।

श्रम अधीक्षक द्वारा  बताया गया कि यह एक अंशदायी पेंशन योजना है, जिसमें कामगार को उनकी उम्र के अनुसार निर्धारित राशि को जमा कराना होगा तथा उतनी ही राशि केंद्र सरकार के द्वारा उनके खाते में जमा की जाएगी।

 60 वर्ष की आयु पूरी करने के पश्चात न्यूनतम 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन की राशि उन्हें जीवन भर मिलेगी ।

मासिक अनुदान की राशि उम्र के अनुसार 55 रुपये से 200 रुपये के बीच निर्धारित की गई है । 18 वर्ष की आयु के कामगार को 55 रुपये जबकि 29 वर्ष की आयु के कामगार को 100 रुपये तथा 40 वर्ष की आयु के कामगार को 200 रुपये मासिक अनुदान की राशि निर्धारित की गई है।

उनके द्वारा यह भी बताया गया कि यदि कामगार कुछ अवधि के पश्चात इस योजना से किसी कारणवश हटना भी चाहते हैं तो उन्हें उनकी तब तक की जमा की गई राशि ब्याज सहित वापस मिल जाएगी ।

साथ ही यदि 60 वर्ष के बाद किसी पेंशन धारी की मृत्यु हो जाती है तो पेंशन की राशि का 50% यानी आधी राशि उनके आश्रित (पति पत्नी आदि) को पारिवारिक पेंशन के रूप में जीवन भर मिलेगा।

 उन्होंने यह भी बताया कि यह पेंशन योजना अन्य पेंशन योजनाओं के अतिरिक्त होगा जो उन्हें अन्य विभागों से मिलेंगे।

 जिला पदाधिकरी, द्वारा सभी उपस्थित  पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया श्रम एवं रोजगार मंत्रालय भारत सरकार की यह बहुत ही अच्छी योजना है तथा यह योजना समाज के असंगठित क्षेत्रों में कार्य करने वाले लाखों-करोड़ों कामगारों क वृद्धावस्था को ध्यान में रखकर बनाई गई है क्योंकि एक कामगार की शारीरिक एवं मानसिक क्षमता 60 वर्ष की आयु के पश्चात कम हो जाती है जिसकी वजह से उनकी उपार्जन क्षमता भी घट जाती है।

उनके बेटे और बेटियां भी शादी विवाह या कार्य करने हेतु घर से दूर चले जाते हैं तथा बुढ़ापे में कामगारों को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ता है।

यदि कामगार प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत अपना पेंशन कार्ड बनवाते हैं तो वृद्धावस्था में 60 वर्ष की आयु के पश्चात उन्हें 3000 रुपये प्रति माह का पेंशन मिलेगा जिससे न उनकी आर्थिक परेशानी दूर होगी बल्कि वे अपनी मूलभूत जरूरतों को भी आसानी से पूरा कर सकेंगे।

उन्होंने जिले के सभी असंगठित कामगारों से अपील की है कि वे इस पेंशन सप्ताह में प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत अपना पेंशन कार्ड बनवा लें । साथ ही श्रम संसाधन विभाग द्वारा संचालित योजना बिहार भवन एवम अन्य सनिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में भवन निर्माण में कार्य करने वाले निर्माण श्रमिकों का निबंधन किया जाता हैं।

विभिन्न प्रकार के 16 योजनाओं से निबंधित श्रमिकों लाभान्वित किया जाता हैं यथा मृत्यु लाभ, दाह संस्कार, विवाह सहायता, नकद पुरस्कार, औजार क्रय, पितृत्व लाभ, मातृत्व लाभ, आयुष्मान योजना,शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता, साइकिल क्रय,भवन मरम्मती, विकलांगता पेंशन, 60 वर्ष के बाद पेंशन, परिवार पेंश, चिकित्सा सहायता। इसमें निबंधन एवम निबंधित श्रमिक योजना के लाभ के लिए निर्माण श्रमिक वेबसाइट bocw.bihar.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।*उक्त बैठक में      उप विकास आयुक्त विनय कुमार, क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त*मुजफ्फरपुर,श्रम अधीक्षक, सीतामढी, csc जिला प्रबंधक, सीतामढी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!