Breaking News

आपदा का फरिश्ता ने बचाया गंडक नदी पुल पर से छलांग लगाई हुई खुशी कुमारी का जान


वैशाली: 
सोमवार को गंडक नदी क्लब घाट के चौथे पिलर के बीच पर से 40 फीट ऊपर से छलांग लगाई, बहती हुई तेज धारा में, खुशी कुमारी 18 वर्षीय, अपनी जीवन लीला समाप्त करना चाहती थी, परंतु आपदा के फरिश्ता इंस्पेक्टर गणेश जी ओझा, हाजीपुर एसडीआरएफ टीम के कंपनी कमांडर, ने अपने जांबाज, बहादुर जवानों, के साथ गंडक नदी में डूबते, बहते, हुए जा रही लड़की का जान बचाया।

 घटना 2:10 बजे हुआ।

  सैकड़ों सिविलियन लोगों ने जोर-जोर से आवाज दे रहे थे कि लड़की डूबते हुए जा रही है तेज धारा में, परंतु गंडक नदी की तेज धारा का भयानक रूप देख कर के किसी का हिम्मत नहीं हो रहा था कि बचाया जा सके, ग्रामीणों के आवाज सुन कर सभी जवानों ने निकल कर के रेस्क्यू जान बचाने का कार्य में लग गए, और लड़की का जान बचा लिया, मुख्य रूप से जान बचाने वाले कर्मिक नाम जो इस प्रकार है इंस्पेक्टर गणेश जी ओझा, सिपाही राधेश्याम शर्मा, सिपाही कुंदन कुमार, सिपाही श्रीकांत कुमार, सिपाही विनय कुमार यादव, सिपाही राजीव रंजन और सिपाही रामनरेश का जान बचाने में मुख्य भूमिका रही।।इंस्पेक्टर गणेश ओझा ने घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक महोदय, अनुमंडल पदाधिकारी महोदय, और नगर थाना प्रभारी हाजीपुर, के पुलिस टीम आई और खुशी कुमारी को पुलिस अपने साथ लेकर परिवार को सुपुर्द की.

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!