Breaking News

सेंटर आफ एक्सिलेंस फार फ्रुट्स केन्द्र में राष्ट्रीय सेमिनार का किया गया आयोजन


वैशाली: 
सहदेई बुजुर्ग-भारत-इजराइल कृषि परियोजना के तहत आम एवं सब्जी के विषय पर सहदेई बुजुर्ग प्रखंड क्षेत्र के पहाड़पुर तोई स्थित सेंटर आफ एक्सिलेंस फार फ्रुट्स केन्द्र में राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया है। सेमिनार के दूसरे दिन आम के उत्पादन विषय पर देश भर से 25 वैज्ञानिक और इजराइल के कृषि विशेषज्ञ एवं आम विशेषज्ञ ने चर्चा की। सेमिनार में उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडू, कर्नाटका, आसाम, दिल्ली आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना एवं गोवा से आए वैज्ञानिकों ने फल एवं सब्जी में सुक्ष्म सिंचाई की जानकारी तथा उनमें होने वाले उर्वरक प्रबंधन पर विचार विर्मश किया गया। इजराइल के कृषि विशेषज्ञ इयर एसेल, विषय वस्तु विशेषज्ञ क्लीफ लव एवं डेनीयल हदाद ने भी भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए निदेशक उद्यान नन्द किशोर ने बताया की राज्य में दो सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस संचालित है। जो एक फल एवं. दूसरा सब्जी के क्षेत्र में कार्य कर रहा है। सेन्टर का मुख्य उद्देश्य उच्च तकनीकों का प्रर्दशन, गुणवत्तापूर्ण पौध सामग्रीयों का उत्पादन एवं किसानों को तकनीकों से अवगत कराना है। उन्होने यह भी बताया कि भविष्य में बिहार में और भी सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस खोलने का प्रस्ताव है। इस सेमिनार से प्राप्त होने वाले तथ्यों के आधार पर भविष्य में प्रस्ताव पर कारवाई की जाएगी। सेमिनार के दौरान विभिन्न उद्यानिक फसलों में सुक्ष्म सिचांई का उपयोग, जल प्रबंधन, उर्वरक प्रबंधन, संरक्षित खेती परविस्तार से चर्चा हुई। खास तौर पर संरक्षित खेती में प्लास्टिक का उपयोग कैसे फसलों पर प्रभाव डालता है। इस पर भी विस्तार से चर्चा हुई। इजराइल से आए हुए आम विशेषज्ञ ने आम के कैनोपी प्रबंधन पर सेन्टर आफ एक्सिलेंस परिसर और बगल के गांव के किसान के बगीचे में जा कर सभी आगन्तुको को प्रायोगिक तौर पर कर के दिखाया गया। कैनोपी प्रबंधन के द्वारा आम के बगीचे में पौधे को सीधा रखने, पौधो से पौधो के बीच दूरी रखने एवं घने टहनीयों को काट कर अलग रखने में मदद मिलती है। इजराइल के प्रतिनिधियों ने कृषि मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह से भी मुलाकात की तथा बागवानी में होने वाले नए प्रयोगों एवं उसके उपयोगों को सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस के माध्यम से किसानों तक पहुंचाने में बिहार सरकार की प्रसंसा की। प्रतिनिधियों ने ये भी कहा कि सेन्टर के माध्यम से सुक्ष्म सिचाई, उच्च तकनीक प्रबंधन एवं संरक्षित खेती के द्वारा सहयोग प्रदान करने पर किसान की आमदनी में निश्चित रुप से वृद्धि की जा सकेगी। कार्यक्रम में नितेश कुमार राय उप निदेशक उद्यान, परियोजना पदाधिकारी प्रशांत कुमार, सहायक निदेशक उद्यान अभय कुमार गौरव, सहायक निदेशक उद्यान ओम प्रकाश मिश्रा, इंचार्ज आलोक कुमार, एवं प्रगतिशील कृषक एवं कंम्पनी प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!