Breaking News

लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाने के लिए सरकार कर रही है कार्य: ग्रामीण विकास मंत्री


वैशाली: हाजीपुर:-
श्री श्रवण कुमार , माननीय मंत्री ग्रामीण विकास विभाग , बिहार सरकार के द्वारा ग्रामीण विकास की योजनाओं के प्रगति की समीक्षा के क्रम में कहा गया कि सरकार लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाने के लिये कार्य कर रही है । ग्रामीण विकास की जो भी योजनाएँ है उसे समय पर पूर्ण किया जाय। लोगों को अधिक से अधिक रोजगार मिल सके इसके लिए रोजगार सृजन किया जाय । मनरेगा के तहत् अगर जॉब कार्डधारी श्रमिक के द्वारा कार्य के लिए आवेदन दिया गया है तो उसे अविलम्ब कार्य दिया जाय । 

आज वैशाली समाहरणालय सभागार में माननीय मंत्री महोदय के द्वारा ग्रामीण विकास की योजनाओं प्रधानमंत्री आवास योजना ( ग्रामीण ) , इंदिरा आवास योजना , लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान , मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय सहायता योजना , मनरेगा , जल - जीवन- हरियाली , वृक्षारोपण , जीविका से संबंधित योजनाओं के प्रगति की समीक्षा की गयी । इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा , अपर समाहर्ता श्री जितेन्द्र प्रसाद साह एवं उप विकास ● आयुक्त श्री चित्रगुप्त कुमार सभागार में उपस्थित थे । सर्वप्रथम जिलाधिकारी के द्वारा माननीय मंत्री का स्वागत किया गया इसके पश्चात् उप विकास आयुक्त के द्वारा पॉवर प्वांइट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से योजनओं की प्रगति की जानकारी दी गयी । प्रधानमंत्री आवास योजना ( ग्रामीण ) के विषय में बताया गया कि 2022-23 में कुल 44 हजार आवास निर्माण का लक्ष्य मिला है जिसके विरूद्ध 42 हजार आवास की स्वीकृति दी गयी है।

 उसमें 38500 लाभूकों के प्रथम किस्त की राशि दी गयी है । अभी तक 4506 आवास पूर्ण कराये गये हैं । इस पर माननीय मंत्री ने कहा कि कार्यों में तेजी लाई जाय और प्रतिदिन समीक्षा कर 15 अगस्त तक लक्ष्य को प्राप्त किया जाय । पदाधिकारी क्षेत्र भ्रमण करें । पर्यवेक्षक एवं आवास सहायक पर कड़ायी की जाय । माननीय मंत्री ने कहा कि वैसे लोग जो पैसा उठा लिये हैं और आवास पूर्ण नहीं कराये हैं उनको चौकिदार के माध्यम से नोटिस निर्गत किया जाय ।

 माननीय मंत्री के द्वारा निदेश दिया गया कि इन्दिरा आवास के तहत पूर्व में स्वीकृत आवास जो अभी तक अपूर्ण है उसे पूर्ण कराने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी मेहनत करें और इसके लिए एक माह का समय दिया गया । उन्होंने कहा कि अगर लोन की जरूरत है तो बैंकर्स से वार्ता कर लोन भी दिलवायी जाय परंतु आवास हर हाल में पूर्ण करायी जाय । मनरेगा के कार्यों की समीक्षा में कहा किया कि जॉब कार्डधारी सभी श्रमिकों को उनके मॉग के आधार पर कार्य उपलब्ध करायी जाय । अगर कोई श्रमिक कार्य के लिए आवेदन करता है तो उससे कार्य करायी जाय । प्राप्त आवेदन के विरूद्ध अगर कार्य नहीं करायी जा रही है । तो यह घोर लापरवाही है । उप विकास आयुक्त को इसकी जाँच कर कार्रवाई करने का निदेश दिया गया । आवास निर्माण में मानक दिवस के आधार पर मनरेगा का कन्वर्जेन्स 75 प्रतिशत पाया गया जिसे और बढ़ाने का निदेश माननीय मंत्री के द्वारा दिया गया ।

 बैठक में बताया गया कि जिला में कुल तीन लाख साठ हजार सक्रिय श्रमिक है जिसमें एक लाख उन्तालिस हजार का आधार सिडिंग है । माननीय मंत्री के द्वारा सभी का आधार सिडिंग कराने और आधार वेस्ड भुगतान करने का निदेश दिया गया । मनरेगा के तहत संचालित खेल मैदान , पशुशेड , मुर्गी शेड , आंगनवाड़ी , राजीव गाँधी सेवा केन्द्र , मनरेगा भवन के निर्माण की समीक्षा की गयी । माननीय मंत्री ने कहा कि सभी प्रखंडों में बच्चों के खेलने के लिए एक - एक खेल मैदान का निर्माण करायी जाय । इसका चयन प्रखंड मुख्यालय न कर कुछ दूरी पर किया जाय ताकि ग्रामीण बच्चें अधिक लाभांवित हो सकें । यहाँ वृक्षारोपण भी करायी जाय और इसे सुंदर रूप दिया जाय । जल - जीवन- हरियाली के तहत पौधा रोपड़ के विषय में बताया गया कि कुल 5 लाख 56 हजार पौधा लगाने का लक्ष्य मिला है ।

 माननीय मंत्री के द्वारा नीम , पीपल , वरगद का पौधा अधिक लगाने की बात कही गयी । माननीय मंत्री ने जानना चाहा कि जब 2016 में शौचालय योजना आरंभ की गयी थी उस समय जिला में कितने घरों में शौचालय थे और कितने घरों में नहीं थे । इस पर बताया गया कि 214696 घरों में शौचालय पहले से थे और 261684 घरों में नहीं थे । इस योजना के तहत 256523 शौचालयों का निर्माण कराया गया हैं वर्तमान में 8167 घरों में शौचालय नहीं है । जिला में कुल 320 सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया गया है और 46 जगह यह कार्य अभी चल रहा है । इससे कुल 3285 परिवार को इसका लाभ मिल रहा है । माननीय मंत्री ने कहा कि लोगों को व्यवहार परिवर्तन के लिए जागरूक करें ताकि लोग इसका उपयोग करें । जीविका के कार्यों में सतत् जिवकोपार्जन की समीक्षा में बताया गया कि 4708 परिवार को इससे जोड़ा गया है जिसमें से 1600 परिवार को आर्थिक लाभ भी दिया गया है ।

 माननीय मंत्री के द्वारा उनके जीवन स्तर में आये परिवर्तन के बारे में पूछने पर बताया गया कि इसमें सुधार हुआ है । परिवार में सदभाव बढ़ा है । माननीय मंत्री ने कहा कि जीविका के उत्पादों को बाहर का बाजार उपलब्ध करायी जाय । इसका ब्रांडिंग किया जाय और बड़े स्तर के मेले में जीविका का स्टॉल लगवायी जाय ताकि इसके उत्पाद को एक अलग पहचान मिले । बैठक के अंत में माननीय मंत्री के द्वारा सभी उपस्थित पदाधिकारी को शुभकामना दी गयी और कहा गया कि अगर कोई समस्या है तो बता दिया जाय । बैठक में माननीय मंत्री के साथ जिलाधिकारी , अपर समाहर्ता , उप विकास आयुक्त , निदेशक डीआरडीए , सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी , मनरेगा के कार्यक्रम पदाधिकारी , पर्यवेक्षक , डीपीएम जीविका एवं संबंधित अभियंता उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!