Breaking News

अनोखी लेखन शैली है पत्रकार रमाकांत यादव की पहचान, साहित्य में भी है गहरी रुचि


दरभंगा(बिहार):
कहा जाता है कि साधारण लोग तो केवल अनुसरण करते हैं लेकिन साहसी व्यक्ति नया मार्ग प्रशस्त करते हैं। कुछ ऐसी ही कहानी है दरभंगा में कार्यरत युवा पत्रकार रमाकांत यादव की। पत्रकार रमाकांत यादव 'राज' अपनी रिपोर्टों के माध्यम से दरभंगा जिला और प्रमंडल समेत संपूर्ण मिथिला में अपनी अलग पहचान बना रहे हैं। वे 2021 से सर्कल एप्प के माध्यम से जनउपयोगी जानकारियों और समाचारों को लोगों के बीच ला रहे हैं। पिछले एक वर्ष में वे डिजिटल मीडिया में पहचान स्थापित कर चुके हैं। वे वर्तमान में सर्कल एप्प की सिस्टर कंपनी शेयरचैट में दरभंगा जिला के मनीगाछी प्रखंड प्रतिनिधि के रूप में कंटेंट क्रिएटर का दायित्व संभाल रहे हैं। "सर्कल एप्प", "शेयरचैट एप्प" के अतिरिक्त वे बिहार के मधुबनी जिला में नेपाल सीमा से सटे जयनगर से प्रसारित हिन्दी लोकल न्यूज पोर्टल "जयनगर न्यूज" में भी साहित्य संपादक के रूप में जुड़े हुए हैं।


पत्रकारिता के साथ ही वे साहित्य साधना में भी लीन रहते हैं। पवित्र संगम नगरी प्रयागराज से प्रकाशित हिन्दी मासिक पत्रिका "साहित्यांजलि प्रभा", राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से प्रकाशित हिन्दी मासिक पत्रिका "संपर्क भाषा भारती" और बिहार की राजधानी पटना से प्रकाशित हिन्दी मासिक पत्रिका "निर्भय पंछी" के साथ ही अन्य पत्रिकाओं में उनकी कहानी, कविता, लघुकथा, यात्रा वृत्तांत इत्यादि प्रकाशित होता रहा है। वे कम ही समय में पत्रकारिता के साथ ही साहित्य जगत में चर्चा में आ गए हैं। साहित्य क्षेत्र में उनकी गहरी रुचि है।

उनकी पत्रकारिता की शुरूआत भले ही बिहार में माँ जनकनंदिनी जानकी जी के मिथिला क्षेत्र के दरभंगा से हुई है लेकिन वे मूलरूप से उत्तर प्रदेश में मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी की भूमि अवध क्षेत्र के बस्ती जिले के रहने वाले हैं और वर्तमान में राजधानी दिल्ली में सिविल सर्विसेज की तैयारी भी कर रहे हैं। वे पहले भी यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में मेंस की परीक्षा दे चुके हैं। वे आने वाले दिनों में दिल्ली की पत्रकारिता में भी सक्रिय भूमिका निभा सकते हैं। वे अपने जनवादी-राष्ट्रवादी रिपोर्टों के लिए चर्चा में रहते हैं। सोशल मीडिया पर भी वे सक्रिय होकर लिखते रहे हैं। हिंदी के साथ ही अवधी भाषा में वे साहित्य लेखन करते हैं। वे अवधी भाषा में स्वयं के नेतृत्व में एक पत्रिका भी निकालने की तैयारी में हैं। पत्रकारों और साहित्यकारों की सक्रिय संस्था "भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ(आईएनजेएफ)" से जुड़कर वे पत्रकार हित में आवाज बुलंद करते रहे हैं।

कम समय में ही उनकी इस उपलब्धियों के लिए और प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए "जयनगर न्यूज" द्वारा उन्हें 14 मार्च 2022 को उदीयमान पत्रकार के रूप में सम्मानित भी किया गया है। उनकी इस संघर्ष भरी यात्रा के लिए और उज्जवलमय भविष्य के लिए डॉ. भगवान प्रसाद उपाध्याय, सुभाष सिंह यादव, लक्ष्मण सिंह यादव, नितेश कुमार यादव समेत अन्य पत्रकारों और साहित्यकारों ने बधाई दी है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!