Breaking News

पंचायत सरकार भवनों को पूर्ण रूप से क्रियाशील बनाया जाए: जिलाधिकारी


हाजीपुर :-
वैशाली समारणालय सभागार में पदाधिकारियों के साथ जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी श्री यशपाल मीणा के द्वारा जिला में नव निर्मित 38 पंचायत सरकार भवनों को पूर्ण रूप से क्रियाशील बनाने का निदेश जिला पंचायत राज पदाधिकारी को दिया गया । जिलाधिकारी ने कहा कि वहाँ पर मुखिया , सरपंच , पंचायत सचिव सहित अन्य लोगों के बैठने की व्यवस्था करायी जाय । वहाँ पर आरटीपीएस काउन्टर चालू कराया जाय ताकि पंचायत स्तर पर होने वाले सभी कार्य वहाँ से सम्पादित हो । पंचायत स्तर पर निर्गत होने वाले प्रमाण पत्र भी वहीं से बने यह व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाय । 

जिला समन्वय समिति की बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों से जिलाधिकारी ने चार बिन्दुओं पर जानकारी प्राप्त की । उन्होंने कहा कि सभी पदाधिकारी महत्वपूर्ण विभागीय पत्र , कोर्ट के लम्बित मामले विभाग की महत्वपूर्ण प्रगति एवं अन्तर्विभागीय समन्यवय एवं सहयोग के बारे में बतायेंगे । अपर समाहर्ता वैशाली श्री विनोद कुमार सिंह के द्वारा बताया गया कि जमाबंदियों के डिजीटाईजेशन का कार्य अगस्त माह में पूरा किया जाना है । सभी त्रुटिपूर्ण जमाबंदियों का भौतिक सत्यापन करा लिया गया है और 92 प्रतिशत का ऑन लाईन इन्ट्री भी करा दी गयी है । राघोपुर अंचल की प्रगति धीमी है जिस पर जिलाधिकारी ने वहाँ के अंचलाधिकारी से पूछ - ताछ की और 25 अगस्त तक इसे पूरा कराने का निदेश दिया गया । 

जिलाधिकारी के द्वारा अंचलों में बनाये गये सभी रिकार्ड रूम को अद्यतन कर उसे क्रियाशील बनाने का निदेश दिया गया एवं कहा गया कि क्रय की गयी सभी समानों का मिलान कराते हुए उसे इन्स्टॉल कराया जाय । अपर समाहर्त्ता वैशाली को सभी अंचलों में कोर्ट का निरीक्षण करने का निदेश दिया गया । उप विकास आयुक्त ने बताया कि सभी प्रखंडों में दो - दो पंचायत का चयन कर उसे आदर्श पंचायत के रूप में विकसित किया जाना है जिस पर कार्य किया जा रहा है । जिला पंचायत राज पदाधिकारी ने बताया कि पंचायतों में सोलर लाईट के अधिष्ठापन का पत्र आया है । यह कार्य ब्रेडा के माध्यम से किया जाना है । जिला परिवहन पदाधिकारी ने बताया कि तीसरे चरण में कुल 18 बस स्टॉप बनाने का पत्र प्राप्त है जिसके लिए स्थल का चयन किया जा रहा है । जिलाधिकारी के द्वारा बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं पर चिन्ता प्रकट की गयी और ब्लैक स्पॉट की संख्या बढ़ाने का निदेश दिया गया । जिला में बनने वाले ड्राइविंग ट्रैक के लिए जमीन की उपलब्धता के बारे में पुछने पर बताया गया कि डीटीओ कार्यालय के पास आरसीडी की जमीन है अगर यह ट्रैक वही पर बने तो अच्छा रहता ।

 इस पर आरसीडी के कार्यापालक अभियंता से पूछ - ताछ की गयी । सिविल सर्जन को निर्देश दिया गया कि सभी पीएचसी के लिए ड्यूटी का रोस्टर चार्ट संबंधित अनुमंडल पदाधिकारियों को शेयर करें ताकि उनके स्तर से प्रखंड या अंचल के पदाधिकारियों को भेज कर प्रत्येक शीफ्ट में उपस्थिति की जाँच करायी जा सके । जिलाधिकारी ने कहा कि चिकित्सकों को हर हाल में ड्यूटी करनी ही होगी । सिविल सर्जन प्रतिदिन संध्या में प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक के साथ वीडियो कॉफ्रेंसिग कर प्रतिदिन के कार्यों की जानकारी लें । जिला आपूर्ति पदाधिकारी को निदेश दिया गया कि महादलित या कमजोर वर्ग के लोगों से रैण्डम बेसिस पर फोन कर राशन वितरण की जानकारी प्राप्त करें और जो भी राशन कार्ड लम्बित है उसे शीघ्र बनवाकर लाभूकों को वितरित करा दिया जाय । जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि 31 जुलाई तक अभियान चालाकर कुल 58573 नया नामांकन कराया गया है जो पिछले वर्ष की अपेक्षा 38 हजार अधिक है । 

जिलाधिकारी के द्वारा पूर्व में दिये गये निदेश के आलोक में सभी विद्यालयों के डाटा बेस बना लिये जाने की बात कहीं गयी । डीईओ ने बताया कि उन प्राथमिक विद्यालयों की सूची भी बन गयी है जहाँ बच्चों के बैठने के लिए बेंच डेस्क नहीं है । जिलाधिकारी के द्वारा इस पर जरूरी कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया । जिलाधिकारी के द्वारा जन शिकायतों के निष्पादन को प्राथमिकता देने का निदेश देते हुए कहा गया कि अगले शनिवार को अपना पंचायत अपना प्रशासन के तहत् प्राप्त आवेदनों के निष्पादन की समीक्षा की जाएगी । जिला समन्वय समिति की बैठक में जिलाधिकारी के साथ अपर समाहर्त्ता , उप विकास आयुक्त , सभी जिला स्तरीय पदाधिकारी , अनुमंडल पदाधिकारी , डीसीएलआर , पीजीआरओ सहित सभी वरीय उप समाहर्त्ता उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!