Breaking News

अनुमंडल पदाधिकारी ने अनुमण्डल के विभिन्न सरकारी योजनाओं का किया निरीक्षण एवं जांच


वैशाली:
सहदेई बुजुर्ग/महनार - महनार के अनुमंडल पदाधिकारी सुमित कुमार ने जिला पदाधिकारी के निर्देश पर अनुमण्डल के देसरी प्रखण्ड के देशरी पंचायत में विभिन्न सरकारी योजनाओं का निरीक्षण कर उसकी जांच किया।इस सम्बंध में अनुमंडल पदाधिकारी कार्यालय महनार से मिली जानकारी के अनुसार अनुमंडल पदाधिकारी ने पंचायत में पुस्तकालय,जनवितरण प्रणाली दुकान,आंगनवाड़ी केंद्र,विद्यालय,अमृत सरोवर से संबंधित योजनाओं का निरीक्षण किया।वही देसरी उच्च विद्यालय में अवस्थित पुस्तकालय के भवन का निरीक्षण किया।निरीक्षण के क्रम में निर्देश दिया गया कि इसका जल्द उद्घाटन कर लें।सारे उपस्कर आ चुके थे।किताब आना बाकी रह गया था।लाइब्रेरियन मौजूद थी एवं पंजी भी संधारित था।

उद्घाटन नहीं होने के कारण केवल स्कूल के बच्चे ही आ रहे थे।प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी को निर्देश दिया गया की माइकिंग से सारे पुस्तकालयों से प्रचार प्रसार करा लें।देसरी में आंगनवाड़ी केंद्र 41 का निरीक्षण किया गया।आंगनबाड़ी केंद्र पर सेविका पोशाक में नहीं पाई गई।यहां बिजली की व्यवस्था नहीं थी। 30 प्रतिशत उपस्थित बच्चे ड्रेस में नहीं थे।शौचालय भी साफ नहीं था। 30 में केवल 14 बच्चे उपस्थित थे।बाल पेंटिंग दीवार पर प्रदर्शित था।सेविका ने पंजी दिखलाने में असमर्थता व्यक्त किया।सीडीपीओ को बताया गया कि सेविका को दो बार स्पष्टीकरण दिया गया है।उन्हे निर्देश दिया गया कि तीसरी बार स्पष्टीकरण देते हुए चयनमुक्त का अनुशंसा डीपीओ आईसीडीएस को दें।अनुमंडल पदाधिकारी ने देसरी के जन वितरण प्रणाली विक्रेता मोहन चौधरी अनुo 32/16 के यहां निरीक्षण किया।निरीक्षण के क्रम में महादलित टोला के लाभुकों ने बताया गया कि विक्रेता द्वारा पीओएस मशीन से निर्गत पर्ची नही दी जाती है।

अनाज निर्धारित मात्रा से आधा किलोग्राम कम दी जाती है।जिसपर एसडीओ ने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को सभी विक्रेताओं के दुकान में अपना नंबर लिखवाने एवं सभी महादलित टोले में डीलर्स के माध्यम से एक से सौ गिनती लिखवाने का निर्देश दिया।एसडीओ ने देसरी पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय किचनी लखनपुर का निरीक्षण किया।नामांकन के हिसाब से 40 प्रतिशत बच्चे ही उपस्थित थे।इसके लिए मुहिम कार्यक्रम के तहत विद्यालय शिक्षा समिति एवं प्रधानाध्यापक को अभिभावकों से संपर्क करने का निर्देश दिया गया।उनके जवाबों का पंजी भी संधारित करना है।जो बच्चे निजी विद्यालय में पढ़ते है।उनका नाम काटने का भी निर्देश दिया गया।अभिभावकों से मासिक बैठक भी करने को कहा गया।विद्यालय में चार शिक्षक उपस्थित थे।

आठवीं के बच्चे फ्रेक्शन का सवाल (वर्ग दो के सवाल) भी हल नही कर पाए।जिसके लिए विद्यालय में बेसलाइन टेस्ट करवाने का निर्देश दिया गया।प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण की मांग करते हुए वेतन स्थगित करने का निर्देश दिया गया। प्रधानाध्यापक को यह भी निर्देश दिया कि सप्ताह में चार दिन चेतना सत्र चलाना है।बेस लाइन टेस्ट अंग्रेजी,हिंदी और गणित विषयों का लेकर कमजोर बच्चों को सुधारना है मुहिम कार्यक्रम निरंतर चलाना है।बाल सांसद को क्रियान्वित करना है।मासिक अभिभावक शिक्षक बैठक आयोजन करवाना है।एसडीओ ने अमृत सरोवर योजना जहांगीरपुर शाम को भी देखा।यह योजना केवल 50 प्रतिशत ही पूरी हुई है।सरोवर के चारों ओर क्रमिक ढलान मिट्टी से कराने का निर्देश दिया गया।ताकि भविष्य में पानी जमा होने पर कोई नहीं डूबे।कुछ बचे हुए पेड़ों को भी रंग रोगन करने का निर्देश दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!