Breaking News

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को आचार संहिता उल्लंघन का मामला मे किया बरी


वैशालीः
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को आचार संहिता उल्लंधन के 7 साल पुराने मामले में हाजीपुर व्यवहार न्यायालय की विशेष अदालत ने बरी कर दिया है. दोपहर में वे केस के सिलसिले में पेशी के लिए हाजीपुर व्यवहार न्यायालय  पहुंचे हैं. लालू प्रसाद के कोर्ट में पेशी को ध्यान में रखते हुए कोर्ट परिसर की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी. एसीजेएम-1 सह विशेष न्यायाधीश स्मिता राज की अदालत में मामले की सुनवाई हुई. राजद सुप्रीमो के वकील श्याम बाबू राय ने बताया कि गंगाब्रिज थाना क्षेत्र के तेरसिया में 27 सितंबर 2015 को विधान सभा चुनाव के सभा के दौरान लालू प्रसाद यादव पर जाति सूचक शब्द के प्रयोग करने का आरोप था.

 साक्ष्यों के आभाव में कोर्ट ने लालू प्रसाद को बरी  कर दिया. विशेष न्यायाधीश स्मिता राज की अदालत की ओर से बरी किए जाने के फैसवे के बाद उन्होंने अदालत का शुक्रिया अदा किया. अदालत की ओर से लालू प्रसाद यादव को साक्ष्यों के अभाव में बरी किए जाने के बाद उन्होंने अदालत का शुक्रिया अदा किया. मामले में चार्जशीट के आधार पर कोंगलिजेन्स हुआ था. इसके बाद लालू प्रसाद यादव उपस्थित हुए थे. प्रॉसीक्यूशन की ओर से पांच गवाही कराई गई थी. इस मामले में सारे लोगों की गवाही हुई. क्रॉस एग्जामिनेशन के बाद स्टेटमेंट और अन्य प्रक्रिया हुआ और फिर आज जजमेंट हुआ जिसमें न्यायालय ने पाया कि लालू प्रसाद के खिलाफ पर्याप्त सबूत प्रॉसीक्यूशन की ओर से नहीं लाया गया है. सबूतों के अभाव में लालू प्रसाद यादव को बाइज्जत बरी कर दिया गया. अरगुमेंट पहले ही हो चुकी थी. आज केवल न्यायालय को जजमेंट डिलीवर करना था और न्यायालय ने लालू प्रसाद यादव को कहा कि सबूतों के अभाव में आपको इस केस से बाइज्जत बरी किया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!