Breaking News

तीन दिवसीय जन्माष्टमी महोत्सव समापन पर शुरू हुआ श्रीमद् भागवत कथा यज्ञ


वैशाली:
महुआ हाजीपुर सड़क अवस्थित महुआ पानापुर में राधेकृष्ण मंदिर पर तीन दिवसीय श्री कृष्ण जन्मोत्सव समापन के साथ श्रीमद् भागवत कथा की शुरुआत की गई। सोमवार को यहां श्रीमद् भागवत कथा श्रवण के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। कथा की शुरुआत तुलसी कलश यात्रा के साथ शुरू हुई। जिसमें 51 लड़कियों ने भाग लिया।

यह तुलसी कलश पानापुर के ही महावीर मंदिर से उठाकर 2 किलोमीटर दूर श्रद्धालु विभिन्न देवी-देवताओं के जयघोष करते हुए यज्ञ स्थल राधे कृष्ण मंदिर पहुंचे। जहां विधिवत कलश को स्थापित कर श्रीमद् भागवत कथा शुरूआत की गई। यहां वृंदावन से आए दिव्याम्वर दास ब्रह्मचारी, अनिरुद्ध प्रभु, लीला पुरुषोत्तम दास, हरिमोहन प्रभु, सर्व साक्षी प्रभु के साथ कथा व्यास ध्रुव नारायण दास ब्रह्मचारी द्वारा श्रद्धालुओं को तुलसी परिक्रमा कराई गई। जिसमें महिलाएं, युवतियां और बच्चे भक्ति में झूम उठे। जिससे विहंगम दृश्य उभरा। कथा श्रवण के मौके पर आए श्रद्धालुओं को पहले यज्ञ देवता का माथा टेकवाया गया। यहां महा आरती हुई। जिसमें यज्ञ को निर्विघ्न रुप से संपन्न कराने के लिए आह्वान किया गया। इसी के साथ देवी देवताओं के जय घोष गूंज उठे और श्रीमद् भागवत कथा में भगवान श्री कृष्ण के बाल रूप का रसपान श्रद्धालुओं को कराया गया। यहां भगवान श्री कृष्ण के बाल रूपों को सुनकर दर्शक भाव विहल हो गए। आगामी 27 अगस्त तक चलने वाले श्रीमद् भागवत कथा में बताया गया कि भगवान श्री कृष्ण का जीवन बाल्यावस्था से ही कष्ट प्रद रहा। उन्हें विभिन्न विध्न बाधाएं आई लेकिन उन्होंने उसे हंसते हंसते दूर किया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!