Breaking News

जिलाधिकारी क्षेत्र भ्रमण कर किया आवाज एवं अन्य योजनाओं कि समीक्षा

 


 प्रभंजन मिश्रा की रिपोर्ट // वैशाली  जिलाधिकारी  यशपाल मीणा के द्वारा निरंतर क्षेत्र भ्रमण एवं लगातार विकास योजनाओं की समीक्षा कर जिले में विकास के कार्यों को गति दी गयी है । वैशाली जिला को पीएम आवास योजना के तहत स्वीकृत आवास के आधार पर आवास पूर्णता के मामले में बिहार में पहला स्थान प्राप्त हुआ है । पीएम आवास के तहत वैशाली जिला को वित्तीय वर्ष 2021-22 में 42328 आवासों की स्वीकृति दी गयी थी । जिसके विरूद्ध 39026 लाभूकों को प्रथम किस्त का भुगतान किया गया । जो लक्ष्य का 92.75 रहा है । उसमें 27152 आवासों को पूर्ण कराया गया है जो लक्ष्य का 69.57 प्रतिशत है । इस प्रकार प्रथम किश्त के भुगतान और आवास पूर्णता के मामले में वैशाली बिहार में प्रथम है । जिला को कुल 88 अमृत सरोवर का लक्ष्य प्राप्त हुआ था । जिसे अभियान के रूप में लिया गया और इसमें 48 को पूर्ण करा लिया गया है जबकि शेष 40 पर कार्य किया जा रहा है । इस कार्य में भी वैशाली जिला बिहार में प्रथम है । । वैशाली जिला में स्थानीय प्रशासन को मजबूती देने के लिए 41 पंचायत सरकार भवन को पूर्ण करा कर हैण्ड ओवर कराया गया है जहाँ एक ही छत के नीचे पंचायत की सभी कार्यों को सम्पन्न कराया जाएगा । इसके अतिरिक्त 7 पंचायत सरकार भवन का निर्माण कार्य प्रगति पर है तथा 7 पंचायत सरकार भवन के लिए प्रशासनिक स्वीकृति प्राप्त की गयी है जिसका शीघ्र निर्माण कार्य प्रारंभ कराया जाएगा और समय सीमा के अंदर पूर्ण कराया जाएगा जिसमें जिला में 55 पंचायत को अपना पंचायत सरकार भवन मिल जाएगा । इसके अतिरिक्त 10 का तकनीकी स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेजा गया है । जिला में कुल 990285 जमाबंदियाँ त्रुटिपूर्ण थी जिसको ठीक कराने के लिए मई के मध्य से अभियान चालाया गया । इसका प्रतिदिन अनुश्रवण किया गया और भौतिक सत्यापन कराकर 771015 जमाबंदियों का थऑन लाईन इन्ट्री करायी गयी । यह कार्य अभी भी चल रहा है और बहुत जल्द ही शत प्रतिशत इन्ट्री करा दी जाएगी । जिला के सभी अंचलों में लोकभूमि चिन्हित कराकर उसकी डायेक्टरी तैयार करायी गयी है ताकि सरकार की योजनाओं के लिए ससमय भूमि की उपलब्धता में सुगमता रहे । ऐसा करने वाला वैशाली बिहार का पहला जिला बन गया है ।

नगर क्षेत्र हाजीपुर के विकास के लिए नगर क्षेत्र का निरंतर भ्रमण किया गया और नगर परिषद हाजीपुर के पदाधिकरियों के साथ बैठक कर जरूरी निदेश दिये गये । हाजीपुर नगर को अतिक्रमण मुक्त रखने के लिए रामाशीष चौक से कौनहारा घाट , त्रिमूर्ति चौक से जौहरी बाजार , अनवरपुर चौक से राजन्द्र चौक एवं गाँधी चौक से नाका नं0-03 तक सड़कों की मापी कराकर पीलर लगाया गया है । रामाशीष चौक से त्रिमूर्ति चौक होते हुए जौहरी बाजार तक डिवाइडर पर डेकेरेटिव लाईट लगाने का कार्य पूर्ण होने वाला है । जौहरी बाजार स्थित रेलवे की जमीन पर अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त कर निर्मित पार्क का सौन्दर्यीकरण कराया जा रहा है । रामाशीष चौक और राजेन्द्र चौक पर डिजिटल डिसप्ले वोर्ड लगाये गये हैं । गाँध आश्रम पार्क का सौन्दर्यीकरण किया गया है । यहाँ पर स्थित कुआँ जिससे गाँधी जी स्नान किये थे , जो अब भर चुका था , उसका जीर्णोद्धार कराकर जीवन्त बनाया गया है । यहाँ पर स्थित दीपनारायण सिंह संग्रहालय का भी रंग - रोगन कराया गया है । मॉनसुन के समय शहर को जल - जमाव से मुक्त रखने के लिए पाँच चरणों में योजना बनायी गयी है । जिसके पहला चरण का डीपीआर बनाकर नगर विकास एवं आवास विभाग को स्वीकृति के लिए भेजा गया है जिसकी लागत 49.9 करोड़ रूपया है । जिलाधिकारी के द्वारा निजी कंपनियों से वार्ता कर वैशाली जिला के विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षित युवाओं को नौकरी से जोड़ने के लिए जिला निबंधन एवं परामर्श केन्द्र हाजीपुर के परिसर में माह मई के मध्य से अगस्त माह के मध्य तक कुल 4 रोजगार मेले का आयोजन जिला नियोजन पदाधिकारी की देख - रेख में कराया गया । यह मेला 26 मई , 13 जुलाई , 13 अगस्त तथा स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 15 अगस्त को लगाया गया । जिसमें कुल 1856 युवकों ने हिस्सा लिया । इन आयोजनों में कुल 672 युवाओं को नौकरी के लिए ऑफर लेटर दिया गया ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!