Breaking News

भाजपा- राजद के सता संघर्ष का परिणाम है, नीतिश कुमार:- आनंद कुमार चंद्रवंशी


अरवल जिला ब्यूरो वीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट 

अरवल: पूर्व जिला पार्षद आनंद कुमार चंद्रवंशी ने प्रेस बयान जारी कर कहा कि बिहार में नीतीश कुमार का कोई वजूद नहीं है, यह तो भाजपा और राजद का सता संघर्ष का देन हैं कि, नीतिश कुमार सत्रह साल से मुख्यमंत्री बने हुए हैं। चुकी बिहार में भाजपा और राजद दोनो के पास औसत बीस से पच्चीस प्रतिशत वोट बैंक है, जबकि नीतिश कुमार के पास ज्यादा से ज्यादा पांच प्रतिशत वोट बैंक है। सच्चाई है की भाजपा- राजद इसी पांच प्रतिशत वोट बैंक के चक्कर में नीतिश कुमार को उठाए हुए हैं। और नीतिश कुमार इसी भाजपा- राजद के कमजोरी को भाप लिए है। और जनता का जनादेश को बार - बार गला घोट रहे है।

जैसे बिहार का जनता 2010 के विधानसभा चुनाव में भाजपा - जदयू गठबंधन को पूर्ण जनादेश दिया था, जिसे नीतिश कुमार 2013 में गला घोट कर राजद के साथ सरकार बना लिए, फिर 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में जनता ने राजद- जदयू गठबंधन को पूर्ण जनादेश दिया, तो नीतिश कुमार फिर जनता का जनादेश का गला घोंटा और भाजपा से मिल कर सरकार बनाई। अब देखिए 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में जनता भाजपा- जदयू को जनादेश दिया तो नीतिश कुमार ने 2022 में फिर जनता का जनादेश का गला घोंट दिया।

जिस दिन भाजपा और राजद को समझ आ जाएगा की बिहार के राजनीत में हम दोनो का सता संघर्ष में नीतिश बार- बार जनादेश को अपमान कर रहे हैं, उस दिन नीतिश कुमार बिहार में विलुप्त प्राणी हो जाएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!