Breaking News

प्रशासन ने बिदुपुर के चार खतरनाक घाटों को किया प्रतिबंधित


वैशाली बिदुपुर संवाददाता अभिनय कुमार की रीपोर्ट

बिदुपुर प्रखण्ड के गंगा किनारे छठ पर्व को लेकर जिला प्रशासन एवम स्थानीय प्रशासन के द्वारा छठ घाट पर चिन्हित चार घाटों को अति खतरनाक घोषित किया गया है,इन घाटों पर महापर्व करने के लिए प्रशासन के द्वारा प्रतिबंध किया गया है।इस सम्बन्द्घ मे बीडीओ किरण कुमारी एवम सीओ रवि राज के संयुक्त हस्ताक्षर से विज्ञप्ति जारी कर आम लोगो को सूचित किया गया है।वही प्रखण्ड के एक दर्जन घाटों पर सम्भावित दुर्घटना आपदा की रोकथाम तथा आपदाओं के न्यूनीकरण के लिए प्रभारी पदाधिकारी एवम जिला पदाधिकारी वैशाली के पत्र के आलोक में बिदुपुर अंचलाधिकारी रविराज ने दंडाधिकारी,नाविक,गोताखोरों की प्रतिनियुक्ति दिनांक 28 अक्टूबर से लेकर 31 अक्टूबर तक अर्ध्य उठने तक किया गया है।सीओ श्री राज ने बताया कि प्रखण्ड के कुतुबपुर पँचायत के खलसा घाट,जुड़ावनपुर पँचायत के जमींदारी घाट,शीतलपुर कमालपुर पँचायत के रामदौली स्थित सूरदास घाट एवम चेचर पँचायत के गोकुलपुर घाट को अति खतरनाक घोषित किया गया है।इन घाटों पर पर्व करने को लेकर प्रतिबंध लगाया गया है। वही चिन्हित प्रखण्ड के चेचर घाट,खालसा घाट, जमींदारी घाट, आमेर घाट, नावानगर घाट, मधुरापुर घाट, चारपकरा घाट, गोकुलपुर घाट,सूरदास घाट, गणिनाथ घाट,इस्माइलपुर पोखर, चकसिकन्दर पोखर पर दंडाधिकारी,नाविक,गोताखोर आदि की प्रतिनियुक्ति किये गए है।इसके अतिरिक्त प्रखण्ड के अन्य जगहों दाउदनगर पँचायत सरकार भवन पोखर,मझौली गंगटा एवम पोखर,मोहनपुर खजबत्ता गंगटा नहर,आदि जगहों पर छठव्रतियों के द्वारा पर्व एवम घरों पर भी कत्रिम पोखर बनाकर पर्व किये जायेंगे।वही प्रशासन के द्वारा घाट पर रोशनी,सफाई आदि की व्यवस्था नही किये गए है।वही स्थानीय स्तर पर ग्रामीणों के द्वारा भी साफ सफाई एवम रोशनी की  व्यवस्था किये जा रहे है।पर्व को लेकर बाजारों में खरीददारों की काफी भीड़ उमड़ रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!