Breaking News

रावण वध के बाद भगवान राम ने भी किया था छठ व्रत


चारोंधाम मिश्रा। दावथ ( रोहतास)
सूर्य उपासना के पावन पवित्र पर्व छठ पूजा का महत्व भगवान राम व महाभारत काल में भी रहा है। लंकापति रावण का वध कर अयोध्या आने के बाद भगवान श्रीराम और माता सीता ने राम राज्य की स्थापना के लिए कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी को उपवास रखा था और सूर्य देव की पूजा अर्चना की थी। वहीं महाभारत काल में द्रौपदी ने पांचों पांडवों के बेहतर स्वास्थ्य और सुखी जीवन लिए छठ व्रत रखा और सूर्य की उपासना की थी। जिसके परिणामस्वरुप पांडवों को उनका खोया राजपाट वापस मिल गया। 

पौराणिक मान्यता है कि कार्तिक शुक्ल षष्ठी के अस्ताचल सूर्य एवं सप्तमी को सूर्योदय के मध्य वेदमाता गायत्री का जन्म हुआ था। ब्रह्मर्षि वशिष्ठ से प्रेषित होकर राजऋषि विश्वामित्र के मुख से गायत्री मंत्र नामक यजुष का प्रसव हुआ था। भगवान सूर्य की आराधना करते हुए मन में गद्य यजुष की रचना की आकांक्षा लिए हुए विश्वामित्र के मुख से अनायास ही वेदमाता गायत्री प्रकट हुई थी। ऐसे यजुष को वेदमाता होने का गौरव प्राप्त हुआ था। यह पावन मंत्र प्रत्यक्ष देव आदित्य के पूजन, अर्घ्य का अद्भुत परिणाम था। तब से कार्तिक शुक्ल षष्ठी की तिथि परम पूज्य हो गई।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!