Breaking News

राघोपुर में राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखा एवं एटीएम नहीं रहने से लोगों को हो रही घोर परेशानी


वैशाली:
राघोपुर बिहार को  दो मुख्यमंत्री तथा एक वर्तमान उपमुख्यमंत्री देने वाले वीआईपी वैशाली जिले केराघोपुर प्रखंड क्षेत्र में 20 पंचायतों में करीब तीन लाख की आबादी होने के बावजूद एक भी राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखा एवं एटीएम नहीं रहने के कारण व्यापारी, किसान,आदि को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है | प्रखंड के विभिन्न पंचायतों से अंचल कार्यालय, प्रखंड कार्यालय, प्रखंडशिक्षा पदाधिकारी, राघोपुर थाना, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं प्रधान डाकघर में लोग विभिन्न कार्यों के लिए आते हैं। लेकिन राघोपुर प्रखंड क्षेत्र में एक भी राष्ट्रीय कृत बैंक एवं एटीएम नहीं होने के कारण लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। चारों ओर गंगा एवं गंडक नदी से घिरा प्रखंड हमेशा राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में रहे हैं। इस इलाके में करीब डेढ़ दशक तक बिहार प्रदेश को लालू प्रसाद एवं राबड़ी देवी के तौर पर दो मुख्यमंत्री दिया दूसरी बार यहां से विधायक तेजस्वी यादव बिहार के वर्तमान उपमुख्यमंत्री हैं । इसके बावजूद प्रखंड का काया कल्प नहीं हुआ । आज भी यह इलाका विकास की रोशनी से कोसों दूर है। राघोपुर प्रखंड के जुरावनपुर एवं फतेहपुर बाजार में ग्रामीण बैंक की शाखा है । वही जुड़ा वनपुर ग्रामीण बैंक की शाखा में 2 पंचायतों में मिनी ब्रांच है। साथ ही राघोपुर ग्रामीण बैंक के शाखा में नौ पंचायत में मिनी ब्रांच है।राष्ट्रीयकृत बैंकों में सेंट्रल बैंक कच्ची दरगाह से जुड़े मिनी 7 पंचायतों में है जबकि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का राघोपुर प्रखंड में तीन, बैंक ऑफ इंडिया का एक तथा पंजाब नेशनल बैंक का एक मिनी ब्रांच है। राघोपुर प्रखंड क्षेत्र के जुड़ा बनपुर ग्रामीण बैंक की शाखा में अक्सर लिंक फेल एवं पैसों की कमी की समस्या बनी रहती है। इस स्थिति में उपभोक्ताओं को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। कमोबेश राघोपुर प्रखंड क्षेत्र में ग्राहक सेवा केंद्र भी है लेकिन ग्राहक सेवा केंद्र पर राशि निकासी की सीमा निश्चित होने के कारण शादी ब्याह, इमरजेंसी एवं अनिवार्य आयोजनों में राशि की जरूरत होने पर लोगों को पटना एवं हाजीपुर का चक्कर लगाना पड़ता है। चर्चा में रहने वाला राघोपुर प्रखंड का जरा दुर्भाग्य देखिए ? यहशायद बिहार ही नहींदेश का पहला इकलौता प्रखंड होगा जहां राष्ट्रीय कृत बैंक की एक भी शाखा तथा एटीएम का शाखा रही है |आर्थिक प्रगति के इस दौर में गंभीर प्रश्न है कि यहां की तीन लाख की आबादी देश की आर्थिक प्रगति में भागीरदार नहीं है ।क्या यहां के लोगों को बैंकिंग सुविधा नहीं मिलनी चाहिए |लोगों को सुविधाएं देने के राज्य एवं केंद्र सरकार का दावा के बीच प्रश्न लाजमी भी है |प्रदेश एवं देश की आर्थिक प्रगति में भागीरदार राघोपुर प्रखंड के तीन लाख लोग सिस्टम से जवाब मांग रहे हैं ।राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखा नहीं रहने के कारण प्रखंड के किसानों को ऋण देने में काफी कठिनाई होती है वहीं व्यापारियों को भी बैंकों से मदद नहीं मिल पाती है |जिसके कारण प्रखंड के किसान ना तो बड़े पैमाने पर कृषि एवं व्यवसाय ना तो व्यवसाय कर पाते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!