Breaking News

कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान तथा दीपदान का महत्व


वैशाली:
राघोपुर कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजा का विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि ऐसा करने से घर में सुख समृद्धि एवं खुशहाली आती है। कार्तिक पूर्णिमा इस साल 8 नवंबर को है। कार्तिक मास को सभी महीनों में बेहद शुभ एवं फलदाई माना गया है उन विराम मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदी में स्नान एवं दान करने से इस पूरे महीने के किए गए पूजा पाठ के बराबर फल मिलता है कार्तिक महीना भगवान विष्णु को अति प्रिय हैं । कार्तिक पूर्णिमा को देव दीपावली के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि कार्तिक मास में भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। कार्तिक पूर्णिमा 7 नवंबर 2022 को शाम 4:15 पर शुरू होगी जो कि 8 नवंबर को शाम 4: 31 मिनट पर समाप्त होगी। दान करने का शुभ समय 8 नवंबर को सूर्यास्त से पहले तक है। कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा भी कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर का वध किया था। त्रिपुरासुर के वध से प्रसन्न होकर देवताओं ने काशी में दिए जलाए थे। इसलिए इसे देव दीपावली कहा जाता है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदी में स्नान करने से व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिल जाती है। मान्यता है कि इस दिन स्वर्ग से देवता गन भी आकर गंगा में स्नान करते हैं। इसलिए कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान जरूर करना चाहिए। कार्तिक पूर्णिमा के दिन प्रदोष काल में किसी नदी या तालाब में दीपदान करने का विशेष महत्व है । किस दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में इस नदी या तालाब में दीपक प्रज्वलित करें। मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन दीप दान करने से घर में खुशहाली एवं सुख समृद्धि आती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!