Breaking News

प्रखंड के सभी मुखिया ने उप विकास आयुक्त को आवेदन देकर मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी को हटाने के की मांग


वैशाली:
सहदेई बुजुर्ग-सहदेई और देसरी प्रखंड के मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी के मनमाने रवैया से क्षुब्ध होकर सभी मुखिया ने उप विकास आयुक्त को आवेदन देकर हटाने की मांग की है। मुखिया जानती देवी, वीभा कुमारी, मंजु कुमारी, रीता देवी, मनीषा कुमारी,सरस्वती कुमारी, विपीन कुमार, विश्वनाथ चौधरी,पहलाद पासवान समेत सभी मुखिया के द्वारा दिए गए आवेदन में कहा गया है कि ग्रामीण विकास विभाग, बिहार सरकार एवं जिला पदाधिकारी वैशाली के आदेशानुसार मनरेगा योजना का सभी पंचायतों में कार्य का क्रियान्वयन ग्राम पंचायत राज द्वारा कराया जाता है। जो पंचायतों में कार्य ससमय पूर्ण कराया जाता है उसके बाद कार्यक्रम पदाधिकारी, मनरेगा, सहदेई बुजुर्ग के द्वारा भुगतान से पहले सात प्रतिशत अग्रिम रिश्वत की मांग की जाती है। इनके द्वारा कहा जाता है कि अग्रिम राशि नहीं मिलेगा तो किसी भी पंचायत का भुगतान नहीं किया जाएगा। कहा है कि प्रखंड में जब से कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा का पदस्थापन हुआ है, तब से इनके द्वारा अपने से और एक निजी दलाल के द्वारा सिर्फ अग्रिम रिश्वत की मांग की बात किया जा रहा है। निजी दलाल के द्वारा प्रतिनिधि और मनरेगा कर्मी को रिश्वत के लिए बार-बार फोन किया जाता है और वर्तमान समय में कुछ पंचायतों का भुगतान अग्रिम 7 प्रतिशत लेकर किया गया है। समय पर भुगतान नहीं होने से मनरेगा योजना से पंचायतों में कराए जा रहे दर्जनों कार्य रुका हुआ है। सभी मुखिया ने वर्तमान में पदस्थापित मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी को हटाकर पूर्व के मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी को प्रभार देने की मांग की है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!