Breaking News

ग्राम पंचायत बारा भ्रष्टाचार में एक मॉडल पंचायत: अवधेश कुमार


अरवल
जिले के कुर्था प्रखंड में 10 पंचायत है जिसमें 10 पंचायतों में से ग्राम पंचायत बारा भ्रष्टाचार के अकांठ में डुवी हुई है, और भ्रष्टाचार में एक मॉडल पंचायत बनने के कगार पर तेजी से बढ़ते जा रही है, क्योंकि ग्राम पंचायत बारा में पहला वह मुखिया है जो प्रधानमंत्री आवास योजना (इंदिरा आवास, पक्का मकान) में डायरेक्ट रूप से 20 से 30 हजार रु लेने का काम कर रही है, तथा मनरेगा, 14 वी, 15 वी, षष्टम वित्त आयोग में लूट मचा रही हैं।

ऐसा पता चलता है और ऐसा महसूस भी करता हूँ कि ग्राम पंचायत बारा में मनरेगा और अन्य योजना में चल रही जांच भ्रष्टाचारियों के भेंट चढ़ गई है, जो मेरे और पंचायत के कई अन्य व्यक्तियों के द्वारा ग्राम पंचायत बारा में मनरेगा 14 वी वित, पंचम वित्त,षष्टम योजना में जो जांच का आवेदन दिया था, उसमें भ्रष्ट पदाधिकारियों का जांच के नाम पर चांदी कट रही है, एवं जांच के नाम पर भ्रष्टाचारियों का भ्रष्टाचार का भेंट चढ़ गयी,क्योंकि सरकारी पैसा का निकासी एक ही स्थान (गली) में नाम बदल - बदल कर चार- चार बार पैसा का निकासी कर लिया गया है, मनरेगा में गेडा बंदी, तालाब,पोखर, पइन उडाही,पक्का, नल्ली, गली,ढक्कन,पीसीसी का पैसा सात निश्चय योजना से भी पैसा निकाला गया है,जो मैंने पक्का प्रमाण और सबूत के साथ जांच के लिए जिला व प्रदेश के वरिए पदाधिकारीयों को आवेदन दिया था, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ, और उस जांच को ठण्डे बस्ते में डाल कर पदाधिकारी अपना पॉकेट गरम कर रहें हैं। 

लेकिन मैं हार मानने वाला नहीं हूं, क्योंकि हमलोग भगत सिंह के बारिश हैं, भगत सिंह देश की आजादी में अकेला चले थे उनके साथ कई साथी, कई देशभक्त जुड़ते गए - बढ़ते गए तथा अंग्रेजों के दांत खट्टे करते गए भगत सिंह अंग्रेजों के आंखों में कांटा बनकर चुपते रहते थे लेकिन भगत सिंह का एक ही लक्ष्य था, अंग्रेजों को देश से मुक्त करना,आजादी दिलाना। भगत सिंह देश के लिए हंसते-हंसते फांसी के फंदे को चूम लिए थे, मैं ऐसे वीर योद्धा को क्रांतिकारी सलाम करता हूँ। 

उसी प्रकार मेरा और मेरी पार्टी भाकपा - माले का मानना है की इस भ्रष्टाचार के खिलाफ भ्रष्ट जनप्रतिनिधि एवं भ्रष्ट पदाधिकारीयों के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगा और इस लड़ाई में मेरे ऊपर मुकदमा हो सकता है, जेल जा सकते हैं या तो मैं मारे जा सकता हूं,लेकिन मेरी लड़ाई गलत नीति, भ्रष्टाचार,दलाल और ठेकेदार के खिलाफ जारी रहेगा। 

सरकार तो बदली है सरकार तो बनी है महागठबंधन का। लेकिन पदाधिकारी तो वही है, भ्रष्ट पदाधिकारियों का मन मिजाज भी तो वही है, खैर प्रस्थिति और हालात कुछ भी हो, कितना भी बुरा हो, हिम्मत नहीं हारना है, और लड़ाई जारी रखना है मेरी लेखनी बंद नहीं होगी। 

सत्य परेशान हो सकती है हार नहीं मान सकती। 

समय का तकाजा है, जनता और पंचायत के आम - अवाम सब जानती हैं, कि गरीब जनता का हक और अधिकार का हक मारी हो रही है,पैसा का कैसे लूट हो रही है। 

लेकिन जनता देखकर, जानकर एवं सुनकर भी अनसुना कर देते हैं,क्योकि जनता संकुचित माइंड के होते है, उसी तरह जिस तरह महंगाई को देखकर, और महसूस कर के भी चुप रहते हैं, अभी चुप रहने का समय नहीं है चुप रहना भी एक शब्दहीन पाप है। 

जैसे कि केंद्र में भाजपा की सरकार है और केंद्र सरकार पेट्रोल,डीजल,रसोई गैस का दाम बढ़ा रही है लोग महंगाई की मार झेल रहे हैं, महसूस भी कर रहे हैं, लेकिन बोल नहीं पाते हैं उसका कोई खिलाफत नहीं कर पाते हैं सब कुछ सह लेते हैं, वही हालात आज ग्राम पंचायत बारा का है लेकिन मेरी आवाज दबने का नाम नहीं लेगा,वल्कि न्यूटन की तीसरी गति के अनुसार भ्रष्टाचार और गलत का विरोध बढ़ते रहेगा, होते रहेगा। 

हमें डर नहीं कि वह कितने ताकतवर हैं,अफसोस यह है कि हम जिनके लिए लड़ रहे हैं वह हमारे लोग ही उसकी ढाल बने हुए हैं, वरना ये जंग तो हम कब के जीत लिए होते।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!