Breaking News

कर्ज में डूबे पति-पत्नी ने सल्फास की खाई गोली, इलाज के दौरान दंपति की मौत


बिक्रमगंज (रोहतास )।
काराकाट प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत कछवां थाना क्षेत्र के बेलाड़ी गांव में बुधवार की देर रात कर्ज में डूबे पति-पत्नी ने सल्फास की गोली खा अपनी जान दे दी । सूत्रों के मुताबिक मृतक कन्हैया मेहता का 30 वर्षीय पुत्र शशिकांत कुमार एवं उसकी पत्नी प्रियंका देवी बताई जाती है । घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में ले पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल सासाराम भेज दिया है । जानकारी के अनुसार मृतक शशिकांत की शादी वर्ष 2016 में औरंगाबाद जिला के मदनपुर थाना क्षेत्र के बांगरे गांव में प्रियंका के साथ हुई थी । शादी के कुछ दिनों के बाद से ही मृतक शशिकांत अपने वृद्ध माता-पिता को छोड़ ससुराल में ही रहने लगा था । कर्ज लेकर उसने पलामू जिला के करकट्टा स्टेशन के समीप एक कपड़े की दुकान खोल ली थी । लेकिन व्यवसाय में लाभ नहीं होने तथा अधिक कर्ज में डूब जाने के कारण व्यवसाय को पूरी तरह बंद करना पड़ा । उधर दूसरी तरफ पत्नी प्रियंका देवी ने भी जीविका समूह से कर्ज ले रखा था , जिसकी देनदारी नहीं हो पा रही थी । 3 दिन पूर्व दोनों पति- पत्नी अपने पैतृक गांव बेलाड़ी पहुंचे थे तथा बुधवार की देर शाम जहर खाकर जान दे दी । ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक का बड़ा भाई रवि रंजन कुमार अपने परिवार के साथ कर्नाटक के बंगलोर में किसी निजी कंपनी में काम करता है । घटना की सूचना दूरभाष पर बड़े भाई को दे दी गई है । मृतक के पिता कन्हैया मेहता ने बताया कि शशिकांत अपने ऊपर कर्ज के बारे में परिवार के किसी सदस्यों को नहीं बताया था । 3 दिन पूर्व गांव आने के उपरांत वह बार-बार कर्ज में डूबे होने तथा अपने मरने की बात बता रहा था । पहले भी जान देने की कोशिश करता था , मगर पत्नी के समझाने पर मान जाता था एवं बात - बात में वह कहता था कि हमें तो मरना है । कछवां थानाध्यक्ष वीरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि घटना से संबंधित प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है । पुलिस आत्महत्या के अलावे सभी बिंदुओं पर गहन जांच-पड़ताल कर रही है । 

मौत से पूर्व मृतक ने खाने के लिए मंगाई अनेक सामग्री : 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक शशिकांत सिंह घटना को अंजाम देने से पूर्व बहुत प्रकार की खाने की सामग्री किसी युवक से मंगाया था । परिजनों के अनुसार पहले मृतक ने समोसा मंगा खाया , उसके बाद किसी युवक को ब्रेड पकोड़ा लाने के लिए पैसे दिए । ब्रेड पकोड़ा युवक के लाने से पूर्व ही मृतक ने अपने घर का किवाड़ बंद कर दिया तथा पत्नी को सल्फास की गोली खिला उसके बाद अपने सल्फास की गोली खा ली । किवाड़ बंद करने के उपरांत परिजन बार-बार किवाड़ खुलवाने का आग्रह करने लगे लेकिन मृतक अपनी जिद पर अड़ा रहा । इस तरह काफी समय बीतने के उपरांत मृतक की पत्नी ने बेशुद्ध अवस्था में किवाड़ खोला तब तक बहुत देर हो चुकी थी । आनन- फानन में दोनों को इलाज के लिए निजी क्लीनिक ले जाया गया , जहां इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!