Breaking News

यूरिया खाद की किल्लत से परेशान किसानों ने किया जमकर प्रदर्शन


वैशाली:
राघोपुर प्रखंड में यूरिया और खाद की किल्लत बनी हुई है ।खाद और यूरिया के लिए किसान दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं |किसानों ने इस समस्या को लेकर जमकर प्रदर्शन किया तथा इस समस्या को लेकर पूरी तरह से किसान कृषि विभाग को जिम्मेदार ठहराया है |विभाग के आला अधिकारी किसानों की समस्या को सुनने को तैयार नहीं है |यूरिया खाद नहीं मिलने पर किसान कभी सरकारी एजेंसी तो कभी विभागीय उच्च अधिकारियों के कार्यालयों का चक्कर लगा रहे हैं |दुकानों पर जहां यूरिया मिल रहा है वहां या तो खाद का कालाबाजारी हो रही है या फिर किसानों को एक समय पर खाद नहीं मिल पा रहा है |किसानों को उचित मूल्य में यूरिया खाद मिलने में भले ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है ।लेकिन दर्जनों प्राइवेट खाद विक्रेताओं के यहां किसानों की भीड़ लगी दिखाई देती है ।दुकानदार खाद की कालाबाजारी करने में लगे हुए हैं ।क्षेत्र के किसानों को खाद की आवश्यकता होती है उसी दौरान सरकारी एजेंसियों पर खाद की कमी हो जाती है |लेकिन प्राइवेट दुकानदार मनमर्जी के दामों पर किसानों को खाद उपलब्ध कराकर मालामाल हो रहे हैं |किसानों की कहना है कि अगर समय पर यूरिया नहीं मिलता है तो फसल प्रभावित होगी ।हर साल राघोपुर प्रखंड क्षेत्र में खाद की किल्लत रहती है |फसलों में सिंचाई के बाद अब खाद की जरूरत है लेकिन किसानों को समय पर खाद नहीं मिल रहा है |खाद विक्रेताओं के पास खाद का स्टॉक नहीं होने से यह समस्या बनी हुई है |दुकान पर खाद पहुंचने के साथ ही दुकान के बाहर किसानों की भीड़ लग जाती है |कई किसानों को बिना खाद के मायूस लौटना पड़ता है |समय से यूरिया खाद की आपूर्ति नहीं होने के कारण आक्रोशित किसानों ने स्थानीय प्रशासन एवं जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए उग्र प्रदर्शन किया | राघोपुर प्रखण्ड क्षेत्र के जफराबाद टोंक तथा सरफराबाद गाँव में दो दुकानदारों द्वारा यूरिया खाद की कररही कालाबाजारी करने पर किसानों हारा हंगामा एवं प्रदर्शन करने के बाद दोनो दुकानदारों ने टैक्टर पर यूरिया खाद लोड कर छुपाने के उद्देश्य से अन्यत्र छिपा दिया है।बताया जाता है कि जफराबाद टोंक पंचायत निवासी अनुज राय पिता शिव प्रसाद राय उर्फ साहेब तथा जाफराबाद निवासी भजीन्द्र राय आठ सौ बोरा यूरिया खाद बिना लाइसेंस के दुकानदारी कर कालाबाजारी कररहा था।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!