Breaking News

अलग-अलग स्थानों पर 03 व्यक्तियों की संदिग्ध मौत..


वैशाली: 
महनार थाना क्षेत्र में अलग-अलग स्थानों पर 03 व्यक्तियों की संदिग्ध मौत की सूचना मिलने पर अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी महनार के नेतृत्व में अन्य पुलिस पदाधिकारी को घटनास्थल पर भेजा गया तथा पुरी घटना की जाँच कर आवश्यक कारवाई करने का निर्देश दिया गया। तीनों व्यक्तियों के मृत्यु के संबंध में अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी महनार से जांच कराकर जांच प्रतिवेदन प्राप्त किया गया उसके अवलोकन से पाया गया था कि डीएस विद्यालय के उप प्राचार्य जयप्रधान पिता स्व० गौतम प्रधान स० सापारा थाना कोतवाली जिला जलपाईगुडी (पश्चिम बंगाल) की मृत्यु के संबंध में उनके पेट में दर्द होने तथा उसका इलाज कराने के क्रम में हुआ है। दूसरा मृतक राहुल कुमार,पिता रामप्रवेश पासवान सा० देशराजपुर,थाना महनार, जिला वैशाली जो बाहर में रहकर काम करते थे तथा दिनांक 30.1.22 को अपने चाचा की लड़की के विवाह में सम्मिलित होने के लिए घर आये थे और विवाह में सम्मिलित हुए थे। रात्रि में घर लौटने पर इनके पेट में दर्द एवं पैखाना होने लगा ईलाज के कम में उनकी मृत्यु हो गयीं। तीसरा मृतक अनिल दास पिता हरेन्द्र दास उर्फ लखिन्द्र दास - लायापुर थाना महनार जिला वैशाली का वो तीन बिना से अपने पत्नी से अगला चल रहा था और इसी कारण उसने उब कर अनाज में रखने वाला कीटनासक गोली खा लिया और ईलाज के क्रम में उनकी मृत्यु हो गयी परन्तु सामल मिडिया एवं स्थानीय लोगों में ऐसी चर्चा आम है कि उक्त तीनों व्यक्तियों की मृत्यु जहरीली शराब के सेवन से हुई है।

उक्त घटना के संबंध में तत्कालीन थानाध्यक्ष महनार पुलिस निरीक्षक राजन पाण्डेय के स्वलिखित बयान के आधार पर महनार माना काठ संख्या 35122, दिनांक-03.12.22, धारा-328/2012/120(बी) मा अज्ञात के विरुद्ध अंकित कर अग्रिम कारवाई प्रारंभ की गयी। अनुसंधान के क्रम में उपरोक्त तीनों मृतक का मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, हाजीपुर वैशाली के नेतृत्व में चिलीय टीम द्वारा अन्त्यपरीक्षण किया गया तथा अन्त्यपरीक्षण के क्रम में तीनों तक का बिसरा एवं नमूना विधि विज्ञान प्रयोगशाला मुजफ्फरपुर से जोब कराने हेतु सुरक्षित रखा गया जिसे माननीय न्यायालय से आस प्राप्त कर तीन मूलक 01-प्रधान 02- राहुल कुमार एवं 03- अनिल दास का विसरा जांच हेतु विधि विज्ञान प्रयोगसला मुजफरपुर भेजा गया। विसरा जांच प्रतिवेदन से तीनों मृतक में कोई शालिक, अल्कोहलिक ग्लाइकोसाईडल कीटनाशक और कापशील जहर नहीं पाया गया। इसी प्रकार रक्त नमूना के जाँच प्रतिवेदन से तीनों मृतकों में एथिल अल्कोहल तथा मिथाईल अल्कोहल नहीं पाया गया है।

विधि विज्ञान प्रयोग से प्राप्त जांच प्रतिवेदन के आधार पर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सदर अस्पताल हाजीपुर से भी तीनों मृतकों के मृत्यु के कारण के संबंध में स्पष्ट प्रतिवेदन की मांग की गयी।

जहाँ चिकित्सा पदाधिकारी के द्वारा तीनों मृतकों के संबंध में समर्पित प्रतिबदन में किसी प्रकार के अल्कोहल अथवा अन्य जहर से मृत्यु होने की पुष्टि नहीं की गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!